बोला अलीगढ़ जामा मस्जिद का इमाम – “मुझे भी जला कर मारने की हुई है कोशिश, घर को भिगो दिया था पेट्रोल से”

विदित हो की जब से उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार आई है तब अपराधियों और अतायाचारियो के दिन ढल गए है. उनका पुलिस वालों ने जीना

हराम कर दिया है. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त प्रदेश बनाना चाहती है और जब ऐसी सरकार आती है जो काम काज करती है तो उनका मनोबल गिराने की कोशिश होती है जिसके फल स्वरूप अनुचित कार्य कर सरकार को झूठ मूठ का बदनाम करने कि साजिश रची जाती है और भोली भाली जनता को बरगलाया और भड़काया जाता है मौजूदा सरकार के खिलाफ.

ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश का एक नया मामला संज्ञान में आया है. जिसमें जामा मस्जिद के मौलवी ने इल्जाम लगाया है कि उसको जलाने की कोशिश की गई है.

मिली जानकारी के मुताबिक इमाम बिहार के पूर्णिया जिले के निवासी हैं. करीब एक साल से वह जामा मस्जिद में इमाम हैं. वह मस्जिद परिसर में कमरे में रहते

हैं. इमाम के अनुसार रात करीब साढ़े दस बजे कमरे के अंदर खिड़की के किनारे लेटे थे. किसी की आहट पर कई बार आवाज लगाई, लेकिन बाहर से किसी ने

आवाज नहीं दी.

अचानक खिड़की पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी गई. इससे भयभीत होकर वह दरवाजे की ओर भागे तो दरवाजे की कुंडी बाहर से लगी थी.

मौलवी बताते है कि कस्बे में पुलिस चौकी से महज तीस मीटर दूर स्थित जामा मस्जिद के इमाम साबिर रजा (29) को बृहस्पतिवार रात करीब साढ़े दस बजे जिंदा

जलाने की कोशिश की गई. मौलवी जिस तरह से बता रहे उससे तो साफ़ लग रहा कि ये सब बनावटी और किसी को बदनाम करने की साजिश के अलावा कुछ

नहीं.
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मामले की जानकारी होते ही नगर पंचायत जट्टारी के पूर्व चेयरमैन चौ. मनवीर सिंह समेत कुछ व्यापारी एवं मुस्लिम समाज

के लोग मस्जिद में पहुंच गए. सूचना पर जट्टारी चौकी इंचार्ज भी पहुंच गए. कथित मामले की जांच चल रही है.

Share This Post