Breaking News:

रंग दिखने शुरू रोहिंग्या के… 30 लाख का कैश मिला जिसे रखा गया था तबाही फैलाने के लिए

म्यांमार में बौद्धों तथा हिन्दुओं का क़त्ल करके भारत में शरणार्थी या घुसपैठियों के रूप में रह रहे रोहिंग्या आक्रान्ताओं को लेकर देश की सुरक्षा एजेंसिया तथा देश का बड़ा वर्ग जो आशंकाएं जाहिर करता रहा है वो अब सच साबित होती हुई नजर आ रही हैं.  देश की कई सुरक्षा एजेंसियां और संगठन काफी समय से रोहिंग्याओं को देश की सुरक्षा के लिये खतरा बताते हुये उन्हें देश से बाहर करने की मांग करते रहे हैं लेकिन अफ़सोस देश के तथाकथित वोटबैंक के सौदागर राजनेता तथा तमाम बुद्धिजीवी रोहिंग्याओं को शरण दिये जाने की पैराकारी करते रहते हैं.

लेकिन अब रोहिंग्याओं को लेकर ऐसी जानकारी सामने आयी है जिससे रोहिंग्याओं को देश की सुरक्षा के लिये खतरा बताने वाली सुरक्षा एजेंसियों के दावों पर मोहर लगती दिख रही है. दरअसल जम्मू कश्मीर के चन्नी हिम्मत नामक इलाके में बसी रोहिंग्या बस्ती की एक झोपड़ी से 30 लाख रुपये की नकदी बरामद की गई है. इस रकम को एक सूटकेस में रखकर कबाड़ के नीचे छुपाया गया था. बरामद होने वाली नकदी में 500 और 2000 रुपये के नये नोटों में 27 लाख रुपये तथा बाकी के 3 लाख रुपये 100 और 200 रुपये के नोटों में बरामद की गई है. जानकारी मिली है कि ये रकम कबाड़ के नीचे छिपाकर राखी गयी थी तथा आशंका जताई जा रही है कि इससे किसी बड़ी तबाही को अंजाम दिया जाना था. इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

पुलिस के अनुसार पकड़े गये लोगों ने जानकारी दी है कि यह पैसा इस्माइल और नूर आलम नाम के युवकों का है लेकिन यह युवक दो तीन पहले ही बांग्लादेश चले गये हैं.  हालाँकि पकड़े गये रोहिंग्या यह नहीं बता सके कि बिना वैध बीजा के वह दोनों बांग्लादेश कैसे चले गये. पुलिस जांच कर रही है कि बरामद रकम कहीं आतंकी फंडिग, मानव तस्करी अथवा हवाला की तो नहीं है लेकिन इस घटना से रोहिंग्याओं को देश की सुरक्षा के लिये खतरा बताने वालों को इस खुलासे से काफी बल मिला है तथा पुलिस हर एंगल से इसकी जांच कर रही है.

Share This Post