टूट रहा महबूबा का तिलिस्म … पार्टी के लिए बुरा समय भाजपा से अलग होने के बाद

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री तथा पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती का तिलिस्म टूटने की कगार पर दिखाई देता नजर आ रहा है. जब तक महबूबा को भाजपा का साथ था तब तक उनके लिए सब कुछ अच्छा चल रहा था लेकिन अचानक भाजपा द्वारा समर्थन वापस लेते ही सरकार गिरने के बाद से ही महबूबा मुफ्ती की मुश्किलें खत्म होती नहीं दिख रही हैं. इसी के साथ पीडीपी का भविष्य भी अधर में दिखने लगा है. पीडीपी में लगातार फूट और विधायकों के पार्टी छोड़ने की खबरें आ रही हैं. पार्टी हाईकमान पर परिवारवाद को बढ़ावा देने का आरोप लग रहा है.
बीजेपी के किनारा करने के बाद से पीडीपी को अपने विधायकों को एकजुट रखने में दिक्कतें आ रही हैं. अब जो ताजा खबर मिली है वह महबूबा मुफ्ती के होश उड़ा सकती है. खबर के मुताबिक, पीडीपी के नाराज नेता आबिद अंसारी ने दावा किया है कि 14 विधायक पार्टी छोड़ने को तैयार हैं. उनके इस बयान ने पीडीपी की चिंता बढ़ा दी है जो पहले ही कुछ विधायकों की नाराजगी झेल रही है. आबिद अंसारी और इमरान अंसारी ने पिछले हफ्ते ही पार्टी छोड़ने का ऐलान किया था. इनकी नाराजगी पार्टी में परिवार को बढ़ावा देने को लेकर है. महबूबा मुफ्ती ने अपनी सरकार में अपने भाई तसद्दुक सिद्दीकी को पर्यटन मंत्री बना दिया था. बता दें कि इसके बाद मुफ्ती सरकार में मंत्री रह चुके इमरान अंसारी ने महबूबा मुफ्ती पर आरोप लगाया था कि पीडीपी और बीजेपी गठबंधन महबूबा मुफ्ती की अक्षमता की वजह से टूटा.
इसके कुछ ही घंटे बाद विधायक मोहम्मद अब्बास वानी इमरान अंसारी के समर्थन में खड़े दिखे. उन्होंने कहा कि इमरान पूरी तरह सही हैं. इमरान के अंकल और विधायक आबिद अंसारी पहले ही महबूबा के खिलाफ बयान दे चुके हैं. इमरान अंसारी ने आरोप लगाया था कि महबूबा ने सिर्फ पीडीपी को एक पार्टी के तौर पर ही फेल नहीं घोषित किया, बल्कि मुहम्मद सईद के सपने को भी तोड़ दिया. उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि मुफ्ती भाई-भतीजावाद करती हैं. उन्होंने कहा कि गठबंधन की सरकार एक परिवार का शो बनकर रह गया था. इसे भाई, अंकल और रिश्तेदार चला रहे थे. पीपुल डेमोक्रेटिक पार्टी, फैमिली डेमोक्रेटिक पार्टी बनकर रह गई है. उन्होंने कहा कि कभी भी पीडीपी के विधायक महबूबा मुफ्ती को झटका देते हैं..!!
Share This Post

Leave a Reply