कांग्रेस के बुरे दिनों में उस पर चौतरफा हमला…अब तो अब्दुल्ला ने भी उस पर उगला जहर, वो भी सीधे नेहरू पर

देश में चुनाव दर चुनाव लगातार पराजय झेल रही कान्ग्रेस पार्टी पर अब उसके ही सहयोगी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस के नेता व जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने करार हमला किया है. फारुख अब्दुल्ला ने कांग्रेस की उस दुखती नस को छुआ है जिससे कांग्रेस हमेशा बैकफुट पर रहती है. देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर अक्सर देश के बंटवारे के आरोप लगते रहते हैं और अब यही बात फारुख अब्दुल्ला ने कही है. अब्दुल्ला के अनुसार देश के बंटवारे के लिए मोहम्मद अली जिन्ना नहीं प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जिम्मेदार थे.

नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारुख अब्दुल्ला शनिवार को चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, जम्मू की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. यहां अब्दुल्ला ने कहा, ‘मोहम्मद अली जिन्ना साहब पाकिस्तान बनाने के पक्ष में नहीं थे. देश में बनी एक कमीशन में फैसला हुआ था कि हिंदुस्तान का बंटवारा करने के बजाय मुसलमानों के लिए अलग से लीडरशिप रखेंगे. साथ ही अल्पसंख्यकों और सिखों के लिए अलग से व्यवस्था रखेंगे. कमीशन की ये बातें जिन्ना साहब को मंजूर थी, लेकिन जवाहरलाल नेहरू, मौलाना आजाद और सरदार पटेल ने इसे नहीं माना, जिसके बाद जिन्ना पाकिस्तान की मांग पर अड़ गए.’

फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि जिन्ना ने कभी भारत का बंटवारा नहीं चाहा बल्कि नेहरू द्वारा उनके मांगे न मानने के बाद उनके पास देश के बंटवारे के अलावा कोई दूसरा रास्ता नही था और यही नेहरू की जिद देश के बंटवारे का कारण बनी. अगर उस समय नेहरू ने जिन्ना की बात मानी होती तो आज भारत का ये स्वरूप न होता व पाकिस्तान तथा बंगलादेश भारत का ही हिस्सा होते.

फारुख अब्दुल्ला के इस सनसनीखेज आरोप पर कोंग्रेस पार्टी की तरफ से अब तक कोई प्रतिक्रया नहीं आई है व पार्टी पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए है.

Share This Post

Leave a Reply