दिव्यांग महिला तक को नहीं छोड़ा हवस के पुतले जावेद ने.. आँखों में अभी भी तैर रही दरिंदगी


आखिर वह कौन सी सोच है जिसके लिए वो नारी वर्ग मनोरंजन का साधन, अपनी हवस की भूख मिटाने का मात्र है..जो इंसान की जन्मदात्री होती है? वह कौन सी सोच है जो अपनी हवस की पूर्ति के लिए दरिंदगी की सारी हदें पार कर देती हैं ? वह सोच है जो अपनी दुराचारी जाहिल आदमियत वाली बहशी मानसिकता का शिकार जहाँ मासूम छोटी बच्चियों तक को भी बना लेती हैं तो वहीं अपनी माँ की आयु की, बुजर्ग महिलाओं तक को नहीं छोड़ती. सवाल ये भी है आखिर ये सोच आती कहाँ से है, जिसके लिए महिलाएं उसकी हवस मिटाने का साधन मात्र है तथा इसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार रहता है.

जिसको पता ही नहीं बंगाल में अशांति का सबसे बड़ा गुनाहगार , उसको दे दिया गया था सबसे बड़ा पुरष्कार..

नारी स्वाभिमान तथा सम्मान को रौंदने वाली इसी दुराचारी सोच का शिकार झारखंड के लोहरदगा की एक मानसिक रूप से दिव्यांग महिला हुई है जिसके साथ मोहम्मद जावेद ने अपने दोस्त मुंतजीर अंसारी के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया, जिसमें एक महिला ने भी इन दोनों हैवानों का सहयोग किया. मामले की लिखित शिकायत मिलने के बाद सदर थाना पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए महिला सहित तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

आर्थिक जिहादी असलम उगल रहा अपने पाप.. बताया कि कैसे अर्थव्यवस्था को तबाह करने पर आमादा है भगोड़ा हत्यारा दाउद

एक आरोपी पर दुष्कर्म और महिला सहित दो पर मानसिक दिव्यांग को रांची ले जा कर दुष्कर्म की घटना में सहयोग करने का आरोप है. जानकारी के मुताबिक़, पीडि़ता मानसिक रूप से बीमार है. वह अपने भाई के साथ रहती है. विगत 25 अगस्त को पीडि़ता घर से घास लाने की बात कह कर निकली, परंतु शाम तक घर नहीं लौटी. इसके बाद परिवार के सदस्यों ने काफी खोजबीन की, परंतु पीडि़ता का कोई पता नहीं चला. 26 अगस्त को पीडि़ता घर वापस लौटी.

दुर्दांत आतंकियों को क्यों रास आ रहा बिहार ? क्या जिहाद केवल कश्मीर तक था, ये सवाल खड़ा हुआ एक गद्दार की गिरफ्तारी से

पूछने पर बताया कि मुंतजीर अंसारी और एक महिला उसे घुमाने के बहाने लोहरदगा-रांची ट्रेन से रांची ले गए थे. पीड़िता ने बताया कि वहां उसको एक घर में रखा. पीडि़ता को अलग कमरे में जबकि मुंतजीर और महिला दूसरे कमरे में रुके हुए थे, पीडि़ता को जिस कमरे में रखा गया था, वहां पहले से एक व्यक्ति रुका हुआ था. उसे पीडि़ता नहीं पहचानती. उस व्यक्ति ने पीडि़ता के साथ रात भर दुष्कर्म किया। इसके बाद दूसरे दिन मुंतजीर और बुधमनियां ने पीडि़ता को ला कर उसके घर पहुंचा दिया.

जानिए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के पर्यटन के लिए कौनसी प्लानिंग की है पर्यटन मंत्री ने..

पीडि़ता के घर पहुंचने के बाद पीडि़ता के भाई ने मामले को लेकर सदर थाना पुलिस को आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज कराई. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सबसे पहले मुंतजीर और उसकी साथी महिला को गिरफ्तार किया. इसके बाद पूछताछ में दोनों ने जावेद का नाम बताया. पुलिस ने छापेमारी कर जावेद को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...