केरल- कर्नाटक के बाद अब हिन्दू विरोध की ख़ूनी दस्तक झारखंड में भी.. भाजपा नेता भैयाराम मुंडा का कत्ल

रांची (झारखंड)  के मुरहू थाना क्षेत्र स्थित बगमा गांव में बीती देर रात अज्ञात नक्सलियों ने भाजपा नेता भैयाराम मुंडा की गाेली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार बीती रात करीब १० बजे के आसपास १५ से २० की संख्या में वर्दी पहने हथियारों से लैस नक्सली भाजपा नेता के घर में घुसे और अंधाधुंध गोलियां बरसाने लगे। इसमें भाजपा नेता की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई, जबकि मां-भाई बिरसा मुंडा और दूसरी पत्नी गोली लगने से घायल हो गई।
बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने यहां लगभग सौ राउंड फायरिंग की। पुलिस को नक्सली संगठन पीएलएफआई पर हत्या का शक है।  कर्नाटक, केरल के बाद अब झारखण्ड में भी हिन्दु नेता असुरक्षित ! घटना की सूचना मिलने के बाद सुबह चार बजे के आसपास खूंटी के एसडीपीओ रणवीर सिंह और थाना प्रभारी एके दूबे पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में लिया।
मृतक भाजपा नेता भैयाराम ग्राम प्रधान और महर्षि आश्रम मालियादा के सचिव भी थे। भैयाराम मुंडा भाजपा एसटी मोर्चा में मंत्री भी थे और भाजपा मुरहू मंडल के उपाध्यक्ष भी थे। इतना ही नहीं वो अपने इलाके के एक हिंदूवादी छवि के नेता माने जाते थे जिनकी हत्या बेहद सुनियोजित तौर पर की गयी है . इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों में राजाराम मुंडा, लादू मुंडा और आचू मुंडा शामिल हैं।  इस हत्याकांड में शामिल तीन नामजद आरोपियों को मुरहू के बगमा से गिरफ्तार भी कर लिया। एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा के अनुसार, हत्या के पीछे पीएलएफआई नक्सलियों को लेवी नहीं देना वजह बनी है।
गिरफ्तार आरोपियों ने बताया कि पिछले साल बगमा इलाके में अफीम की खेती की गई थी। भैया राम और उसके चचेरे भाई बिरसा ने पुलिस को सूचना देकर खेती को नष्ट करा दिया था। इसको लेकर भी पीएलएफआई उनसे नाराज था। एसपी ने बताया कि हत्या को लेकर मुरहू थाने में 13 लोगों के खिलाफ नामदर्ज प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। इनमें पीएलएफआई के छह नक्सली और सात ग्रामीणों का नाम शामिल हैं। इनमें तीन की गिरफ्तारी हो चुकी है।
Share This Post

Leave a Reply