घर से उठा ले गया उस दलित लडकी को गुलाम सरवर, दो लोगों से कराया बलात्कार और बोला- “मुबारक हो, तू अब मुसलमान बन चुकी है”


ये खबर उन तमाम राजनेताओं तथा बुद्धिजीवियों को आईना दिखाने वाली है जो ये कहते हैं कि लव जिहाद कुछ नहीं होता है तथा हिंदूवादी संगठन साम्प्रदायिकता फैलाते हैं. ये खबर उन लोगों का भी मुंह बंद कर देगी जो समाज में जातिगत जहर बोने का काम करते हैं, दलित समाज को सवर्णों के खिलाफ लड़ाने का प्रयास करते हैं तथा केवल अपनी वोट बैंक के लिए “दलित-मुस्लिम एकता” का राग अलापते हैं तथा हिंदुओं में फूट डालने की कोशिश करते रहते हैं.

दलित मुस्लिम एकता का राग अलापने वालों कोम जवाब दिया है झारखण्ड के धनबाद जनपद के तोपचांची थाना क्षेत्र के गुलाम सरवर ने, जिसने एक दलित समाज की युवती का जबरन अपहरण कर उसका धर्मपरिवर्तन कर निकाह कराया तथा फिर सामूहिक दुष्कर्म को अंजाम दिया. खबर के मुताबिक़ तोपचांची थाना क्षेत्र के लेदाटांड़ गांव की एक दलित परिवार की लड़की (20)ने उसी गांव के अल्पसंख्यक परिवार पर कई सनसनीखेज आरोप लगाये हैं. गुरुवार को पीड़िता ने इस संबंध में एसएसपी से मुलाकात कर अापबीती सुनायी, फिर प्रेस क्लब में आकर उसे दुहराया. इस दौरान पीड़िता का पिता साथ थे. एसएसपी ने तोपचांची पुलिस पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. पीड़िता स्नातक की छात्रा है.             

जबरन लव जिहाद की शिकार हुई पीड़िता तथा उसके पिता ने बताया कि लेदाटांड़ में रहने वाले दर्जन भर अनुसूचित जातियों के परिवार दहशत में हैं. उन्होंने कहा कि गांव के मुस्लिम समुदाय के युवकों की टोली दास परिवार की बच्चियों पर बुरी नजर रखती है. गांव में मुस्लिम समुदाय की संख्या ज्यादा होने के कारण वे विरोध नहीं कर पाते हैं. युवक घर में घुसकर छेड़छाड़ व दबंगता दिखाते हैं. आरोप है कि गुलाम सरवर नामक युवक (25) ने घर में घुसकर छात्रा के साथ बतमीजी की. घरवालों ने पकड़ा तो माफी मांगी और गलती नहीं करने बात कही. लोकलाज के मारे वह चुप रही. पिता ने शादी तय कर दी तो गुलाम ने फोन कर शादी नहीं करने की धमकी दी.
पीडिता का कहना है कि 23 अप्रैल की रात वह शौच के लिए निकली थी तो दो लोगों ने मुंह में कपड़ा ठूंस दिया तथा जबरदस्ती टांगकर गाँव के ही गुलाम सरवर नामक युवक  के घर ले गये. वहां ले जाकर गुलाम सरवर व उसके परिजनों ने उसे निकाह करने का दबाव दिया लेकिन ऐसा नहीं करने पर उसे व परिजनों को जान मारने की धमकी दी. लेकिन फिर भी वह नहीं मानी तो फिर उन लोगों ने जबरदस्ती निकाहनामा में हस्ताक्षर करा लिया तथा जाति सूचक शूचक शब्द कह कर गालियां दी. घरवालों ने उसे शायद नशे का पानी पिलाया था, जिससे वह दिमागी रूप से कमजोर हो गयी. गुलाम ने उसे बुर्का पहना दिया.
पीडिता ने बताया है कि इसके बाद उसको नासिक ले जाया गया व् नासिक में गुलाम व राजा बाबू अंसारी ने उसके साथ दुष्कर्म किया. गुलाम व राजा बाबू उसे चार मई को धनबाद ले आये. दोनों ने लिख कर दिया कि यही बात कोर्ट में बोलना है कि मर्जी से गयी थी, दूसरा धर्म अपना लिया है और अपने कथित शौहर गुलाम के साथ रहना चाहती है. दोनों के भय से वह कोर्ट में वही बोली, जो लिख कर दिया था. छात्रा का आरोप है कि गुलाम सरवर, उसके रिश्तेदार मुख्तार आलम, शकुर अंसारी, राजा बाबू अंसारी घर आकर गाली-गलौज व धमकी देते हैं. गुलाम साथ रहने का दबाव दे रहा है. पीडिता का कहना है वह बहुत डरी हुई है तथा मुस्लिम लोग फिर उसके साथ जबरदस्ती कर सकते हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share