Breaking News:

84 मासूमों के साथ गिरफ्तार हुए हैं 3 उलेमा.. क्या था इनका मकसद और क्या होने वाला था इन मासूमों के साथ ??

एसआई मिशनरी संस्थाओं से बच्चों की तस्करी का मामला अभी शांत नहीं हुआ था कि अब इस्लामिक उलेमाओं द्वारा मासूम बच्चों की तस्करी का मामला सामने आया है. खबर के मुताबिक़, झारखण्ड के जामताड़ा के ८४ बच्चों को तेलंगाना ले जा रहे ३ उलेमाओं ने झारखण्ड पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आशंका जताई कि ये उलेमा बच्चों को तस्करी के लिए झारखण्ड से तेलंगाना ले जा रहे थे. लेकिन फिलहाल मामले की जाँच की जा रही है.

खबर के मुताबिक़, बच्चों को तेलंगाना ले जा रहे तीनों उलेमा (मदरसा में पढ़ाने वाले) और एक रसोइया को राजकीय रेल पुलिस बोकारो ने बाल कल्याण समिति के आवेदन पर गिरफ्तार कर लिया है. उनको शनिवार को रांची रेल कोर्ट में पेश किया गया। अदालत के आदेश पर सभी को न्यायिक हिरासत में रांची के होटवार जेल भेजा गया. पकड़े गए आरोपितों में शमशेर, गुलाम रसूल, मु. मुस्लिम और लाल मुहम्मद शामिल हैं. रेल पुलिस से प्राथमिकी दर्ज करने की अनुशंसा समिति अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार सिंह ने की थी. इनका कहना है कि अलेप्पी एक्सप्रेस से सभी 84 बच्चों को गुप्त सूचना पर उतारा गया. चारों आरोपित इन बच्चों को अवैध तरीके से बिना आवश्यक कागजों के ले जा रहे थे. बाल कल्याण समिति ने प्रारंभिक जांच में पाया कि इन बच्चों के अभिभावकों को लालच देकर व्यक्तिगत स्वार्थ से तेलंगाना ले जाया जा रहा था.

स्थानीय पुलिस का कहना है कि तीन उलेमा था उनके साथ एक रसोइया को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार किये गए चारों लोगों ने बताया है कि वह बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए ले जा रहे हैं लेकिन जब उनसे इसका प्रमाण मांगा गया तो वह साबित नहीं कर पाए. पुकीस का मानना है कि ये मामला मानव तस्करी से या फिर अन्य आपराधिक कृत्य से भी जुड़ा हुआ हो सकता है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW