आदिवासियों से भी शुरु हुए बलात्कार… उठाकर ले गये वहां जहाँ हो रहा था शादी का शोर, जिससे उसकी चीख दब जाए..

महिला सुरक्षा के तमाम वादों तथा दावों के वावजूद देश में महिलाओं पर अत्याचार थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. कभी कोई शादीशुदा महिला बहसी दुराचारी सोच से ग्रसित लोगों की हवास का शिकार होती है, तो कभी ये दुराचारी आक्रान्ता नाबालिग बच्चियों की इज्जत को तार तार कर देते हैं. ऐसी ही मजहबी दुराचारी सोच से ग्रसित आक्रान्ताओं का शिकार झारखण्ड के दुमका की काठीकुंडा क्षेत्र के बड़तल्ला गाँव की एक आदिवासी हुई है जिसके साथ गाँव के ही इस्लाम अंसारी, मुजफ्फर अंसारी तथा हुसैन अंसारी ने सामूहिक दुराचार को अंजाम दिया.

खबर के मुताबिक़, दरअसल गांव में एक शादी का कार्यक्रम था तो शादी के शोरशराबे का फायदा उठा कर तीनों दरिंदों  ने आदिवासी युवती से सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. मामले को लेकर थाना प्रभारी महोदय ने बताया कि पीड़िता बीए की छात्रा है, जो बुधवार की शाम सात बजे शौच के लिए बाहर गयी थी. शादी का माहौल था. इसी का गलत फायदा उठाते हुए गांव के ही इस्लाम अंसारी, मुजफ्फर अंसारी व हुसैन अंसारी ने युवती को दबोच लिया तथा शादी के शोर के बीच सामूहिक दुष्कर्म किया. गुरुवार को पीड़िता न्याय की गुहार लेकर थाना पहुंची. मामला थाने में पहुंचने के बाद थाना ने घटनास्थल का निरीक्षण किया.
पुलिस का कहना है  कि घटना को लेकर प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है. पीड़िता की मेडिकल जांच के बाद आरोपियों की गिरप्तारी के लिए छापामारी जारी है. बता गया है कि इस्लाम व हुसैन पूर्व में ऐसी शर्मनाक वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. इस मामले को एक और जानकारी मिली है कि दुष्कर्म के बाद आरोपी के परिजनों ने मामले को रफा दफा करने के  लिए दवाब बनाया था लेकिन युवती ने दबाब में आने से इनकार कर दिया तथा शिकायत दर्ज कराई. युवती का कहना है तीनों आरोपियों को कड़ी सजा दी जाए ताकि कोई अन्य युवती इन दरिंदों का शिकार न हो.
 


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share