अपनी 13 साल की बेटी से हवस की आग बुझाना चाहता था ज़फर हुसैन, नहीं मानी तो कर डाला बेरहमी से कत्ल


शायद वो तमाम अचानक ही खामोश हो जाएँ जो अभी थोड़े दिन से धर्म , भगवा आदि के नाम पर सडकों पर मचल रहे थे और जोर जोर से फांसी फांसी चिल्ला रहे थे  ये घटना सबको सोचने पर मजबूर कर देगी कि क्या न्याय और नीति के भी कई रूप होते हैं . पूरी घटना विस्तार से पढ़ कर खुद में फैसला कीजिए कि नीति और न्याय के क्या इसको भी मृत्यु दंड नहीं मिलना चाहिए जिसने अपनी ही बेटी के साथ ऐसा जघन्यतम कुकृत्य कर डाला

विदित हो कि झारखंड के जमशेदपुर चांडिल स्थित कपाली के हाजरा मस्जिद के पीछे इस्लामनगर में निर्दयी पिता ने अपनी १३ साल की बेटी की हत्या कर दी। पिता उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहता था। जब बेटी ने इसका विरोध किया तो उसने हत्या कर दी। इसके लिए आरोपी ने सबसे पहले अपनी पत्नी को बेहोश किया और फिर बेटी की हत्या कर घर के कोने में शव दफना दिया। लगभग दो माह बाद रविवार को यह घटना सामने आई। दो महीने पहले आरोपी जाफर हुसैन ने बीमार पत्नी साहिन परवीन को बेहोशी की दवा खिलाकर अचेत कर बेटी मुस्कान परवीन की हत्या कर दी थी। पत्नी हाेश में आई तो बेटी के बारे में पूछा।

इस पर जाफर बोला, तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं है इसलिए उसे रिश्तेदार के घर भेज दिया है। दो महीना बीत जाने के बाद साहिन ने कहा, मैं ठीक हो गई हूं। सारे काम कर सकती हूं। अब बेटी को ले आइए। इस पर जाफर ने धमकाते हुए कहा, चुप रहो, वरना जहां मुस्कान गई है, तुमको भी वहीं भेज दूंगा।  उसके रवैये पर पत्नी को शक होने लगा और उसने कपाली पुलिस को इसकी जानकारी दी। इसके बाद हत्या का राज खुला और कपाली थाना पुलिस ने रविवार को आरोपी को गिरफ्तार किया।
आरोपी जाफर हुसैन ने हत्या की वजह बताई कि, मुस्कान पढ़ने में कमजोर थी इसलिए उसे मार डाला। जबकि उसकी पत्नी साहिन परवीन ने बताया कि, वो एक बार बेटी से संबंध बनाना चाह रहा था। बेटी ने मुझसे शिकायत की तो मेरा उससे झगड़ा हो गया। जाफर ने बेटी की हत्या की धमकी दी थी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share