पति के बलिदान की खबर सुनते ही बेहोश हुई प्रेग्नेंट पत्नी, बेटे ने पूछा….

रांची : झारखंड के सिमडेगा जिले में शनिवार रात नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी बलिदान हो गए। मुठभेड़ में बलिदान हुए जवानों की पहचान बानो थाना प्रभारी विद्यापति सिंह और सिपाही राजू बिरूली के रूप में हुई है। रांची रेंज के डीआईजी अनिल वेणुकांत होमकर ने इस घटना की पुष्टि की है।

बता दें कि थाना इंचार्ज विद्यापति सिंह (36) पलामू के रहने वाले थे। वो इसी माह दूसरे बच्चे के पिता बनने वाले थे। पति के शहीद होने की खबर सुन पत्नी बेहोश हो गई। पांच साल का बेटा घरवालों से पूछ रहा था मां को क्या हुआ, क्यों रो रही हैं। विद्यापति पूरे घर में इकलौते कमाने वाले व्यक्ति थे। पूरे परिवार की जिम्मेवारी उन्हीं पर थी। विद्यापति का एक 5 वर्षीय पुत्र कुमार मीत आर्यन है।

शहीद की पत्नी इसी माह में दूसरे बच्चे को जन्म देने वाली है। घटना से परिजन सहित पूरे गांव वाले काफी सदमे में हैं। वहीं उनकी पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। आज शाम तक उनका पार्थिव शरीर पलामू पहुंचेगा, जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। रांची रेंज के डीआइजी अनिल वेणुकांत होमकर ने बताया कि घटना मे पीएलएफआइ के उग्रवादियों का हाथ है।

जानकारी के मुताबिक, शनिवार को पुलिस को पीपुल लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया के नक्सलियों के महाबुवांग गांव में होने की खबर मिली थी। जिसके बाद थाना प्रभारी विद्यापति सिंह के नेतृत्व में पुलिस की टीम उग्रवादियों के खिलाफ छापामारी करने गई थी। लेकिन उग्रवादियों ने पुलिस पर ही फायरिंग कर दी जिसमें थाना प्रभारी समेत दो पुलिसकर्मी बलिदान हो गए।

Share This Post