जमशेदपुर में तैनात उस पुलिस अधिकारी का सिर्फ नाम भर औरंगजेब नहीं था, बल्कि उसका काम भी वैसे ही था…

मुग़ल शासक औरंगजेब के बारे मैं भारत का बच्चा बच्चा जानता है कि वह देश का सबसे क्रूर शासक था जो निज स्वार्थ हित लगातार जनता पर अत्याचार करता था. जिसके ऊपर न्याय दिलाने की जिम्मेदारी थी, औरंगजेब उ न्याय की धज्जियां उडाता था. आज भी छत्तीसगढ़ मैं मोहम्मद औरंगजेब है जो टेल्को थाने का नाम एसआई है. उसका नाम ही औरंगजेब नहीं है बल्कि उसके कार्य भी औरंगजेब जैसे हैं.

खबर के मुताबिक जमशेदपुर के टेल्को थाने के एएसआई मोहम्मद औरंगजेब को एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने 9 हजार रुपए घूस लेते गुरुवार सुबह उसके ही टेल्को थाना रोड स्थित घर से रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया. एएसआई पर आरोप है कि उन्होंने टेल्को निवासी सुनील प्रसाद और रविशंकर को मारपीट मामले में जमानत देने के लिए नौ हजार रुपए मांगे थे. पैसे देने के लिए उन्हें घर बुलाया था. इसकी जानकारी सुनील प्रसाद ने एंटी करप्शन ब्यूरो को दी थी. इसी सूचना पर छापेमारी की गई.

एसीबी के डीएसपी अमर पांडेय ने बताया कि टेल्को केटू/10 निवासी सुनील प्रसाद ने 28 मार्च को सूचना दी कि टेल्को केटू/1 निवासी राजू मिश्रा के साथ उनका विवाद है. इस विवाद में दोनों तरफ से टेल्को थाने में एफआईआर दर्ज है और उसमें जांच अधिकारी एएसआई औरंगजेब हैं. मामला यह था कि रविशंकर ने टेल्को थाने में एक मामला दर्ज कराया, जिसमें राजेश झा, राजू मिश्रा उर्फ मुनीब, छोटू, पप्पू सिंह उर्फ लंगड़ा और विनोद सिंह पर लाठी डंडा से मारपीट करने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई. इसके खिलाफ राजू मिश्रा ने भी सुनील कुमार प्रसाद और रवि शंकर के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

एएसआई औरंगजेब को शुक्रवार को पुलिस जेल भेजेगी. गिरफ्तारी के दौरान एएसआई अपनी तस्वीर खिंचवाने से बचता रहा. उसे गिरफ्तार कर सोनारी स्थित एंटी करप्शन ब्यूरो के कार्यालय लाया गया है.

Share This Post

Leave a Reply