Breaking News:

जूनागढ़ किसान महासम्मेलन में पहुंचे श्री सुरेश चव्हाणके जी,,, विशाल जनसभा को किया सम्बोधित

भारत देश किसानों का देश है. आज भारत ने अपनी आधुनिकता से पुरे विश्व को अचम्भे में भले ही डाल रहा हो लेकिन आज भारत में जितने भी नागरिक है उनके सभी पूर्वजों ने पहले खेती ही की होगी इसलिए इस देश का हर नागरिक एक किसान परिवार से ही है, यह देश किसानों का देश होने के साथ साथ इस मिटटी ने गौरवशाली वीरों को भी जन्म दिया है, जिनके बलिदान के कारण आज भारत देश स्वतंत्र हुआ है और इस ऊँचाई पर खड़ा है.

एक और आवाज भारत की सेना के खिलाफ.. चुनाव से पहले फिर पाकिस्तान परस्ती और निशाना विंग कमांडर अभिनंदन पर

आज 23 मार्च है जिसको बलिदान दिवस के नाम से जाना जाता है. आज ही के दिन हमारे भारत देश के गौरव और स्वतंत्रता सेनानी श्री भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी दी गयी थी. इस दिवस को याद करते हुए सुदर्शन न्यूज़ चैनल के चैयरमेन श्री सुरेश चव्हाणके ने गुजरात के जूनागढ़ में हो रहे किसान महासम्मेलन में भाग लिया, श्री सुरेश चव्हाणके ने सम्भोधित करते हुए जय जवान, जय किसान ने नारे लगाए और भारत को पाकिस्तान का बनने का अपना संकल्प भी दोहराया। सुरेश जी ने किसानो को सम्बोधन करते हुए किसानो का आत्मबल बढ़ाया और साथ ही साथ उनके साथ हमेशा देने का संकल्प दोहराया। सुरेश चव्हाणके भी एक किसान परिवार से ही है और किसान परिवारों का दुःख बेहद करीब से देखा है, इसलिए उनका किसान परिवारों के साथ बेहद जुड़ाव रहा है, इससे पूर्व भी श्री सुरेश चव्हाणके ने भारत के किसानो के लिए आवाज़ उठायी है और कई महाजनसम्मेलन किये हैं. सुरेश जी ने कभी भी हमारे शहीदों और किसानो को भूलकर आगे नहीं बढ़ते।

सुरेश जी का नारा है कि “सोने से पहले जवान को तथा खाने से पहले किसान को ज़रूर याद करना चाहिए”. इसी नारे को सम्मलेन में कहा गया ताकि लोगो में अपने देश के जवानों के प्रति और किसानों के प्रति उनके ह्रदय में सम्मान बढे. इस नारे का उद्देश्य यही है कि जब लोग खाने बैठे तो उन्हें यह याद रहे कि एक अन्न को उगाने में किसान का पूरा जीवन समर्पित हो जाता है और उस जवान को इसलिए याद रखे कि वो सीमा पर देश की रक्षा में तत्पर है जिसकी वजह से हम शान्ति से भोजन ग्रहण कर पा रहे है, अगर यह न होते तो न तो हम चैन से खा पाते और न चैन से सो पाते.

Share This Post