वीर अंगद के पैर जैसी अड़ गयी #भाजपा .. नहीं अलग होने देंगे #Lingayat को #Hindutva से

कांग्रेस पार्टी पर शुरू से ही ये आरोप लगता रहा है कि इस पार्टी ने हमेशा ही हिंदुत्व के खिलाफ दमनकारी नीतियाँ अपनाई हैं. कांग्रेस अपने ऊपर लगने वाले इस आरोप को समय समय पर अपने बयानों तथा कार्यों से साबित भी करती रही हैं, चाहे वो श्रीराम को काल्पनिक बताना हो, चाहे हिदू तथा भगवा को आतंकी बताना हो या अयोध्या श्रीराम मंदिर की जगह बाबरी मस्जिद की पैरबी करना हो. अब कांग्रेस पार्टी एक बार बार खुद को हिंदुत्व की प्रबल विरोधी साबित करने पर तुली है तथा हिन्दुत्व को तोड़ने के लिए अपनी राजनीती के लिए कर्नाटक में लिंगायत समुदाय  को अलग धर्म का दर्जा देने का घिनौना प्रयास कर रही है.

कर्नाटक में सत्ताधारी कांग्रेस की मुख्य विपक्षी तथा देश में हिन्दुओं की सबसे प्रबल समर्थक मानी जाने वाली भाजपा हिन्दुत्व के तोड़ने की कांग्रेस की कोशिश में अवरोध बनकर खडी हो गयी है तथा एलान कर दिया है कि वह कांग्रेस के इस हिन्दुत्व को तोड़ने की साजिश को सफल नहीं होने देगी. गौरतलब है कि कांग्रेस की कर्नाटक राज्य सरकार ने लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देने का ड्राफ्ट केंद्र को मंजूरी के लिए भेज दिया है जिसे भाजपा ने ख़ारिज कर दिया है.

भाजपा जनता पार्टी ने एलान कर दिया है कि वह अपने रहते वह हिन्दुत्व को विभाजित नहीं होने देगी. भाजपा ने साफ़ कर दिया है कि सत्ता मिले या न मिले लेकिन लिंगायत समुदाय हिन्दुत्व से अलग नहीं हो ने दिया जायेगा. भाजपा का कहना है कि लिंगायत शिव पूजक होते हैं तथा शिव हिन्दुओं के अराध्य देव हैं और कांग्रेस हिन्दू धर्म को तोड़ने के लिए ये घिनौना प्रयास कर रही है जो भाजपा के रहते संभव नहीं है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी साफ़ कर चुके हैं कि वह हिन्दू धर्म के टुकड़े करके सत्ता नहीं चाहते हैं बल्कि संगठित हिन्दू भाजपा को विजय दिलाएगा. एक कांग्रेस क्या सारी भाजपा विरोधी पार्टियां एक होकर हिंदुत्व को तोड़ना चाहें तो भी भाजपा उनके खिलाफ खड़ी होगी.

Share This Post

Leave a Reply