मुस्लिम महिलाओं के दमन का समर्थक ओवैसी अब झेलेगा एक महिला की ही चुनौती.. ओवैसी को उसके घर में ही ललकारा है नौहेरा शेख ने


भारत सरकार के साकारात्मक फैसला तीन तलाक पर रोक से मुस्लिम महिला को समानता का अधिकार मिला. समाज में नई पहचान मिली और तीन तलाक रोक फैसले से पूरा मुस्लिम महिला समाज को बड़ा फायदा मिला। मुस्लिम महिला अपने अस्तित्व में आयी है और देश तीन तलाक रोक फैसले से मुस्लिम महिला अपने अधिकारों ,शिक्षा ,सुरक्षा के लिए सामने आयी। अब मुस्लिम महिला अपनी पहचान के लिए चुनावी मैदान में उतरने लगे है और सच है की मुस्लिम महिला पार्टी से ओवैसी की मुश्किलें बढ़ गयी। दोनों के आपसी मत न मिलने से ओवैसी को लगने लगा है की उनके वोट बैंक बट जायेगे और मनमानी न कर पाएगे।

ट्रिपल तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पूरी तरह उसके क्रियान्वयन के लिए मुस्लिम महिलाएं खुद सक्रिय हो गई है। इसके लिए हैदराबाद की बड़ी कारोबारी महिला नौहेरा शेख ने बाकायदा अपनी एक नई पार्टी का ऐलान किया है। ऑल इंडिया महिला इंपावरमेंट पार्टी (AIMEP) के 11 उद्देश्यों में तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पूर्ण क्रियान्वयन सुनिश्चित कराना भी शामिल है। केंद्र सरकार से भी पार्टी ने तह मांग की कि फैसले के क्रियान्वयन के लिए निगरानी व्यवस्था तैनात करे।

इससे पता चलता है कि ऑल इंडिया महिला इंपावरमेंट पार्टी बनने से ओवैसी आल इंडिया मजलिसे इत्तहादुल मुसलअमिन (AIMEM) की मुश्किलें बढ़ गई और मुस्लिम महिला उद्यमी नौहेरा शेख के चुनावी मैदान में उतरने से असदउद्दीन ओवैसी की चुनौतियां बहुत अधिक बढ़ गई।

मुस्लिम वोटो के सहारे ‘ओवैसी आल इंडिया मजलिसे इत्तहादुल मुसलअमिन’ पार्टी बिहार, उत्तर प्रदेश, असम कई राज्यों में चुनाव लड़ चुकी है और अब लगता है नौहेरा शेख ‘ऑल इंडिया महिला इंपावरमेंट पार्टी’ के आने से ओवैसी के लिए चुनावी मैदानों में अपना घर बचाना बड़ा मुश्किल होगा।

नौहेरा शेख ने कहा चुनाव आयोग में AIMEP को पूरी तरह पंजीकृत करा चुकी और कर्नाटक विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी सभी सीटों पर उम्मीदवार अवश्य ही खड़ा करेगी और 2019 के लोकसभा चुनाव में पूरे देश में लड़ने का उनका इरादा है। जाहिर है इससे कांग्रेस, AIMEM ही नहीं मुस्लिम वोट बैंक के सहारे राजनीति करने वाली दूसरी पार्टियों को भी गंभीर चुनौती का सामना करना पड़ेगा। नौहेरा शेख ने कहा की उनका मुख्य उद्देश्य महिला सुरक्षा, शिक्षा और स्वास्थ्य को केंद्रीत कर महिलाओं के विकास के लिए काम करना है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share