नारियल फोड़कर कभी होता था जब भारत में शुभारंभ, उस भारत के केरल में गाय खाकर किया माननीयो ने ये काम

मोदी सरकार के पर्यावरण मंत्रालय द्वारा बीफ बैन के इस अहम फैसले का विरोध केरल में शुरुवात से ही होता आ रहा है. सरकार के इस महत्वपूर्ण फैसले का विरोध सबसे पहले कांग्रेस के युवा नेताओ ने सरेआम गाय काटकर किया था. लेकिन एक और बड़ी घटना सामने आयी है कि गुरुवार को बुलाए गए केरल विधानसभा के एक दिवसीय विशेष सत्र में हिस्सा लेने से पहले विधायकों ने नाश्ते में गोमांस का सेवन किया.
इस विधानसभा सत्र में मोदी सरकार के मवेशियों की हत्या पर रोक लगाने वाले नए नियम को लेकर चर्चा होनी थी. केरल के विधायक केंद्र के नए नियम पर चर्चा में शामिल होने से पहले कैंटीन पहुंचे. कैंटीन के एक कर्मचारी ने बताया कि आमतौर पर आम कार्यदिवसों में विधानसभा सत्र के दौरान पूर्वान्ह 11 बजे के बाद गोमांस परोसा जाता है। 
उन्होंने कहा, लेकिन आज जब गोमांस के मुद्दे पर ही सत्र बुलाया गया है, तो हम तड़के ही 10 किलो गोमांस ले आए। अब तक विधानसभा में प्रवेश से पूर्व काफी बड़ी संख्या में विधायक बीफ फ्राई खा चुके हैं। सत्र की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने केंद्र की नई अधिसूचना के खिलाफ एक प्रस्ताव पेश किया। विजयन ने कहा, नया कानून और कुछ नहीं, बल्कि लोग क्या खाना चाहते हैं, इससे जुड़े उनके अधिकारों का हनन है। नए कानून से हमारे राज्य के कृषि समाज और हमारे देश पर गहरा प्रभाव पड़ेगा।
Share This Post