Breaking News:

कश्मीर ही नहीं एक और प्रदेश से भर्ती चालू है आतंकियों की.. जानिए कौन सा है वो प्रदेश जो संक्रमित हो चुका इस्लामिक आतंकवाद से


अभी तक यही सुना जाता रहा है कि कश्मीर एक ऐसा राज्य है जहाँ के युवा आतंकी संतों से जुड़ते हैं तथा हिंदुस्तान को तबाह करने का, हिन्दुस्तानी फौजियों को क़त्ल करने का संकल्प लेते हैं. लेकिन अब बात केवल कश्मीर तक ही सीमित नहीं रह गई है बल्कि एक और राज्य से आतंकियों की भर्ती चालू हो गई है. ताजा मामला केरल का है जहाँ के ११ लोग दुबई से गायब हो गए हैं तथा उनके रिश्तेदारों ने खुद व् खुद उनके ISIS में शामिल होने की आशंका जताई है. गायब हुए इन लोगों के रिश्तेदारों का कहना है कि उन्हें आशंका है कि ये लोग ISIS में शामिल हो गए हैं. केरल जो सबसे शिक्षित राज्य माना जाता है लेकिन अब वह इस्लामिक आतंक के संक्रमण से ग्रसित होता जा रहा है.

खबर के मुताबिक, केरल के रहने वाले अब्दुल हामिद ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. हामिद का कहना है कि वह दुबई में रहने वाले अपने रिश्तेदारों से बीते दो हफ्तों से संपर्क नहीं कर पा रहे हैं. उन्हें डर है कि उनके रिश्तेदार इस्लामिक स्टेट से जुड़ गए हैं. जिसके बाद पुलिस ने मामले पर संज्ञान लेते हुए जांच शुरू कर दी है. मामले पर केरल के कासरगोड जिले के पुलिस चीफ ए श्रीनिवास का कहना है उन्हें अब्दुल हामिद की ओर से शिकायत मिली है कि उनकी बेटी सहित उनके परिवार के 6 सदस्य दुबई में लापता हो गए हैं. उन्होंने कहा कि हम इन 6 लोगों के अलावा एक अन्य परिवार के 5 लोगों की भी तलाश कर रहे हैं. उन्होंने आगे बताया कि अब्दुल हामिद ने अपनी शिकायत में कहा है कि उनकी बेटी नसीना (25), उसका पति मोहम्मद सावाद (32) और उनके तीन बच्चे जिनकी उम्र 11 महीने से 6 साल के बीच है, दुबई में लापता हो गए हैं. रिपोर्ट में सावाद की दूसरी पत्नी राहनाथ (22) के लापता होने की भी बात कही गई है. हामिद बीते 15 दिनों से अपने रिश्तेदारों से संपर्क नहीं कर पा रहे हैं.

इस मामले की जांच में जुटे सब इंस्पेक्टर का कहना है कि वह अब वह हामिद के उन रिश्तेदारों के सटीक ठिकाना पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि वह सभी रिश्तेदार दो साल पहले दुबई गए थे. इसके अलावा अन्य पांच लोगों के गायब होने की सूचना भी उन्हें हामिद ने ही दी थी, उनके रिश्तेदारों की ओर से इस बारे में कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई गई. लेकिन यहां सबसे बड़ा सवाल यही खड़ा होता है कि जब ये लोग गायब हुए तो आखिर उनके परिजनों को ये आशंका कैसे हुई कि ISIS में शामिल हो सकते हैं? केरल पुलिस को मामले की इस एंगल से भी जाँच करनी चाहिए कि क्या ये लोग अपने परिजनों से ISIS से जुड़ने आदि के संबंध में भी बात करते थे, क्योंकि तभी उनके परिजनों को ये आशंका हो कि वह इस्लामिक आतंकी संगठन ISIS से जुड़ चुके हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...