Breaking News:

जिसने कहा था कि उसके अब्बा नहीं थे गौतस्कर, अब वही गिरफ्तार हुआ गौतस्करी में.. इसी घटना के बाद शब्द आया था “मॉब लिंचिंग का”

राजस्थान का अलवर एक बार फिर से गोतस्करी को लेकर सुर्ख़ियों में है. बता दें कि राजस्थान की अलवर पुलिस ने गोतस्करी के आरोप में मकसूद खान सहित पांच अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है. ये सभी गोतस्कर तेल के टैंकर में गायों को भरकर ले जा रहे थे. गिरफ्तार किया गया मकसूद खान नवंबर 2017 को गोतस्करी के आरोप में मारे गए उमर खान का बेटा है. बता दें कि गोतस्कर उमर खान के साथ हुई वारदात के बाद ही मॉब लिंचिंग शब्द चलन में आया था. आश्चर्य है कि गोतस्करी के कारण जिस मक़सूद के अब्बू की जान गई, वो मक़सूद इसके बाद गोतस्करी कर रहा है.

पुलिस का कहना है कि आरोपी स्थानीय गांव से गायों को टैंकर में भर रहे थे. उसी दौरान वहां कार से गुजर रहे एक व्यक्ति की नजर इन लोगों पर पड़ी. उस व्यक्ति ने पुलिस को सूचना दी. एसएचओ खेड़ली उमेश बेनीवाल ने बताया, ‘हम सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे. वहां आरोपियों ने तेल के टैंकर में गायों को भर रखा था. इन लोगों को तुरंत ही गिरफ्तार कर लिया गया. उनके पास से एक देसी तमंचा, नौ कारतूस बरामद मिले. उनके पास से एक कार भी मिली, जिसके अंदर 40 शराब की बोतलें रखी थीं. इसके अलावा कार में लाल हरी मिर्च का पाउडर और रस्सी भी बरामद की गई है.

एसएचओ ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों के नाम लियाकत खान, शब्बीर खान, समीन खान, असरूर खान, इरशद खान और मकसूद हैं. उन्होंने बताया कि समीन और असरूर गैंग के लीडर हैं जबकि मकसूद उनके लिए काम करता था। गिरफ्तार किए गए लोगों पर हरियाणा और राजस्थान में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं. हैरानी वाली बात है कि समीन खान ने पुलिस से पूछताछ में बताया कि वह गोतस्करी का काम कई वर्षों से कर रहा है. वे लोग गायें चुराने की जगह पहले तय कर लेते थे. उसके बाद वहां से गायों को चुराकर फिरोजपुर ले जाते थे. वहां उन्हें एक गाय की कीमत 15 हजार रुपये मिलती थी. एक ट्रिप में वे छह से ज्यादा गायें चुराने की कोशिश करते थे ताकि उन्हें कम से कम एक लाख रुपये मिल सकें.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW