कारसेवको का नरसंहार न्याय बताने वाले मुलायम ने आजम पर कार्यवाही को बताया अन्याय.. दिया सपाईयो को एक आदेश


ये वही मुलायम सिंह यादव हैं जो कभी जय श्री राम का भजन गाते अयोध्या की तरफ जा रहे कारसेवको पर गोलियां चलवाई थी .. उस समय पूरे भारत में उपजे आक्रोश के बाद भी वो इस बात से पीछे हटने के लिए तैयार नहीं हुए थे कि उन्होंने गलत किया है .. बल्कि और तो और उन्होंने कई बार भीड़ में सीना ठोंक कर ये भी कहा कि वो बहुत सही काम था और अगर बाबरी को बचाने के लिए उन्हें और भी गोलियां चलवानी पड़ती तो वो चलवा देते .. यद्दपि बाद में हिन्दू समाज ने इन बयानों का अपने वोटो के माध्यम से जवाब दिया .

शायद कोई और होता तो रुतबे से रौंद देता सिपाही को, लेकिन ये थे IPS सुधीर कुमार, SSP गाजियाबाद

लेकिन अचानक ही उनको न्याय में अन्याय दिखने लगा है . आज़म खान के ऊपर की जा रही कार्यवाही वो कारसेवको पर गोलिया बरसाने से ज्यादा गंभीर मान रहे है और आजम खान के पक्ष में खुल कर खड़े होते दिखाई दे रहे हैं . उन्होंने अपने पूर्व सहयोगी के लिए अपना दर्द बयान करते हुए कहा है कि आजम खान को बेवजह प्रताड़ित किया जा रहा है.. जबकि रामपुर पुलिस और जिला प्रशासन एक एक कार्यवाही सबूतों के आधार पर वो भी कानून की सीमाओं के अन्दर रह कर कर रहा है ..

खाप पंचायतों पर तो शुरू हो जाती है बहस लेकिन बहराइच के जमशेद ने अपनी बहन के साथ जो किया उस पर ख़ामोशी क्यों ?

अभी हाल में ही मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश यादव ने रामपुर SP अजय पाल शर्मा का नाम परोक्ष रूप से लेते हुए कहा था कि वो आजम खान के साथ अन्याय कर रहे हैं. लेकिन मुलायम सिंह तो उस से भी आगे निकलते दिखाई दे रहे हैं.. मुलायम सिंह ने समाजवादियो से सडको पर उतर कर आजम खान के खिलाफ हो रही कार्यवाही का विरोध करने को कहा है.. मुलायम सिंह यही नहीं रुके, उन्होंने तो आजम खान को अपनी खुद की जांच में क्लीन चिट दे डाली है ..

खाप पंचायतों पर तो शुरू हो जाती है बहस लेकिन बहराइच के जमशेद ने अपनी बहन के साथ जो किया उस पर ख़ामोशी क्यों ?

आजम खान ने सुदर्शन न्यूज के प्रधान सम्पादक श्री सुरेश चव्हाणके जी से एक इन्टरव्यू चलते चलते में कहा था कि उनकी युनिवर्सिटी करोड़ों की नहीं बल्कि अरबो की है पर मुलायम सिंह उनके बचाव में कुछ और ही धुन में रमे दिखाई दिए .. उनके अनुसार आजम खां की यूनिवर्सिटी भीख मांगकर चंदे से बनाई गई है। आजम ने सारी जिंदगी मेहनत की, एक साधारण परिवार में आजम जन्मे थे, छात्र राजनीति से मेहनत करके यहां तक पहुँचे।

बाबर की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में खड़े मुस्लिम पक्ष की श्रीराम मन्दिर पर दी गई दलील सवाल करती है कि कहाँ है सेकुलरिज्म ?

मुलायम के अनुसार आजम खान ने MLA कोटे से मिला पैसा भी यूनिवर्सिटी के निर्माण में लगा दिया। सैकड़ो बीघा जमीन खरीदने वाला 1-2 बीघा जमीन कब्जा नही कर सकता।  2 गाटा संख्या की ज़मीन जो यूनिवर्सिटी के बाहर है उसको लेकर 28 मुकदमे कर दिए गए. यद्दपि कारसेवको पर गोली चलवाना न्याय और आजम खान पर कार्यवाही को अन्याय बताने वाले मुलायम सिंह के बयान से जनता भी सहमत है या नहीं इसमें तमाम लोगों को शक होता दिखाई दे रहा है .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...