बलात्कारी का नाम उस्मान आते ही खामोश हुआ दिल्ली का महिला आयोग..जो UP, बिहार, गुजरात की खबरों पर लेता है स्वतः संज्ञान

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की छबि इस तरह की बनाई गयी है कि वह दिल्ली ही नहीं बल्कि दिल्ली के बाहर यूपी, बिहार, गुजरात, कश्मीर तक की घटनाओं पर स्वतः संज्ञान लेती है. महिला स्वाभिमान की बात करने वाला यही दिल्ली महिला आयोग उस समय मौन साध लेता है जब दिल्ली में ही स्कूल कैब ड्राइवर उस्मान खान एक मासूम छात्रा के साथ बलात्कार करता है तथा मासूम के बचपन को अपनी हवस के पैरों तले रौंद देता है. सवाल उठता है कि दिल्ली महिला आयोग जब दिल्ली के बाहर की खबरों पर स्वतः संज्ञान ले सकता है तो दिल्ली के बलात्कारी उस्मान पर क्यों नहीं ?

मामला दिल्ली करोलबाग इलाके का है. दिल्ली करोलबाग इलाके में एक नामी प्राइवेट स्कूल के कैब ड्राइवर ने नर्सरी में पढने वाली 5 वर्षीय छात्रा के साथ क्रूरतम यौनाचार को अंजाम दिया.  बच्ची की मां की शिकायत पर करोलबाग थाना पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए कैब चालक उस्मान खान के खिलाफ दुष्कर्म व पॉक्सो के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया. बृहस्पतिवार को उसे तीस हजारी कोर्ट में पेश कर तिहाड़ जेल भेज दिया गया.मध्य जिला पुलिस अधिकारी के मुताबिक 38 वर्षीय उस्मान खान बुराड़ी का रहने वाला है। वह शादीशुदा है. उस्मान पिछले 12 साल से स्कूली छात्र-छात्राओं को स्कूल ले जाने व लाने का काम करता है. उसके पास ईको वैन है. वह करोलबाग स्थित एक नामी पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाले नर्सरी से 12वीं तक के बच्चों को स्कूल ले जाने व लाने का काम करता है.

पिछले चार महीने से उस्मान खान बच्ची को स्कूल ले जाने व घर लाने का काम कर रहा था. बच्ची की मां ने कहा है कि वह कुछ दिनों से स्कूल जाने से आनाकानी कर रही थी और प्राइवेट पार्ट में दर्द होने की बात बता रही थी. शक होने पर बुधवार को बच्ची की मां ने जब उससे सख्ती से पूछताछ की तब उसने कैब चालक द्वारा घिनौनी करतूत करने की जानकारी दी.  बच्ची ने बताया कि स्कूल से घर छोड़ने के दौरान कैब चालक उसे अपने पास बैठा उसके साथ गलत हरकत करता था. सभी को घर छोड़ने के बाद कैब चालक उसे घर छोड़ता था. खैर दिल्ली पुलिस   ने सक्रियता दिखाने बलात्कारी उस्मान को गिरफ्तार कर लिया लेकिन आश्चर्य इस बात का है कि दिल्ली महिला आयोग ने इस मामले पर कोई संज्ञान नहीं लिया. कठुआ कांड पर अनशन करने वाली दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल इस घटना पर संज्ञान लेना  उचित नहीं समझती क्योंकि बलात्कारी का नाम उस्मान है ?

Share This Post