मायावती ने जताई प्रधानमन्त्री बनने की इच्छा तो योगी ने बताया गठबंधन का भविष्य

पिछले लोकसभा चुनावों में खाता भी नहीं खोल पाई बहुजन समाज पार्टी के लिए पिछला विधानसभा चुनाव भी दुस्वप्न के समान रहा था जिसमे उनकी पार्टी को तीसरे नम्बर पर आना पड़ा था . उस समय मायावती की पार्टी के अस्तित्व तक के लिए संकट भाजपा के कुछ नेता बताने लगे थे .. लेकिन इस बार हुए गठबंधन के बाद मायावती का विश्वास इतना अटल है कि उन्होंने अपने प्रधानमन्त्री तक बनने और उसके बाद अपनी रणनीति का खुलासा करना शुरू कर दिया है ..

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने रविवार को यहां इशारों इशारों में कहा कि अगर उन्हें प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिलेगा तो वह अंबेडकर नगर से चुनाव लड़ सकती हैं। मायावती ने यहां एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव बाद यदि जरूरत पड़ी तो वह अंबेडकर नगर सीट से चुनाव लड़ेंगी। हालांकि, उन्होंने प्रधानमंत्री बनने का खुलकर जिक्र नहीं किया, लेकिन उन्होंने कहा कि ‘अगर सब ठीक रहा तो मुझे यहां से चुनाव लड़ना पड़ेगा। क्योंकि दिल्ली की राजनीति का रास्ता अंबेडकर नगर से होकर जाता है।’

वहीँ मायवती के इस बयान और उनके अखिलेश यादव के साथ हुए गठबंधन पर बयान देते हुए योगी आदित्यनाथ ने इस गठबंधन का भविष्य बताया है . सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को एक चुनावी जनसभा के दौरान मायावती और अखिलेश यादव पर जमकर हमला बोला. सीएम योगी ने कहा, ’23 मई को दोनों में मारपीट तय है, लेकिन हम कानून एवं व्यवस्था खराब नहीं होने देंगे.’ योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि चुनाव बाद 23 मई को बुआ (मायावती) बोलेंगी कि बबुआ (अखिलेश यादव) गुंडों का सरताज है और बबुआ कहेगा कि बुआ भ्रष्टाचार की मूर्ति हैं.

Share This Post