लालू के पहले करीबी शहाबुद्दीन को धूल चटाई थी न्याय व्यवस्था ने, अब उन्हीं के दूसरे करीबी इलियास हुसैन को दिखे दिन में तारे

चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तथा राजद प्रमुख लालू यादव का एक और करीबी न्याय व्यवस्था के आगे जमीन सूंघ गया है. आपको बता दें कि आरजेडी के विधायक मोहम्मद इलियास हुसैन को मंगलवार को अयोग्य ठहराया गया. उन्हें रांची में सीबीआई की अदालत की ओर से दो माह पूर्व भ्रष्टाचार का दोषी ठहराए जाने के दिन से ही अयोग्य माना जाएगा. इससे बिहार लालू यादव का एक और करीबी उन्मादी शहाबुद्दीन भी उम्रकैद की सजा काट रहा है.

विधानसभा की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार रोहतास जिले के डेहरी से विधायक हुसैन को 27 सितंबर से अयोग्य ठहराया जाता है. जिस दिन उन्हें अलकतरा घोटाला मामले में दोषी ठहराते हुए पांच साल के कारावास की सजा सुनाई गई थी. घटना 1990 के दशक की शुरूआत की है. हुसैन उस वक्त सड़क निर्माण मंत्री थे. उन्हें अयोग्य ठहराए जाने के बाद 243 सीट वाली विधानसभा में राजद विधायकों की संख्या घट कर 80 हो गई है. बिहार विधानसभा अध्‍यक्ष विजय कुमार चौधरी ने उनकी सदस्‍यता समाप्‍त की.

उनके खिलाफ कार्रवाई जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 8 और संविधान के अनुछेद 191 (ई) के प्रावधानों के तहत की गई है. आपको बता दें कि मोहम्मद इलियास हुसैन को लालू यादव का काफी करीबी माना जाता है. कितना आश्चर्यजनक है कि खुद लालू यादव जेल की सलाखों के पीछे हैं, उनका करीबी शहाबुद्दीन उम्रकैद की सजा काट रहा है तो अब उनके एक और करीबी की विधानसभा की सदस्यता रद्द कर दी गई है.

Share This Post

Leave a Reply