28 साल की लड़की का हलाला करने वाला शख्स अड़ गया.. बोला- “ये मेरी है, नहीं दूंगा इसे तलाक”

तीन तलाक और हलाला के नाम पर  मुस्लिम महिलाओं को किस पीड़ा से गुजरना पड़ता है, उन्हें कितनी अंतहीन प्रताड़ना दी जाती है, इसका उदाहरण उत्तराखंड के खटीमा से सामने आया है जहाँ एक महिला को उसके शौहर ने पहले तीन तलाक दिया फिर एक 65 वर्षीय बुजुर्ग से हलाला करवाया. लेकिन इसके बाद हलाला करने वाले ने जो किया वो हैरान करने वाला था. हलाला करने वाले ने हलाला के बाद उस महिला को वापस तलाक देने से इनकार कर दिया कि वह महिला को चाहने लगा है तथा उसे हमेशा अपने साथ ही रखेगा.

खबर के मुताबिक, उत्तराखंड के खटीमा निवासी अकील अहमद की बेटी जूही का निकाह खटीमा के ही मोहम्मद जावेद के साथ 2010 को हुआ था.  शादी के तीन साल बाद मियां-बीवी में अनबन हुई तो गुस्से में शौहर ने तलाक दे दिया. इनके दो बेटे हैं. दोनों ने एक-एक बच्चा ले लिया. वर्ष 2016 में दोनों को पछतावा हुआ तथा बच्चों की खातिर गलती मानते हुए फिर एक होने का इरादा किया मगर तलाक के बाद हलाला की रस्म आड़े आ गई. इस पर करीब 28 साल की महिला ने खटीमा के ही 65 साल के एक शख्स से निकाह-हलाला किया. शर्त ये थी कि हलाला के बाद वह तुरंत तलाक दे देंगे, लेकिन अब बुजुर्ग शख्स इसके लिए तैयार नहीं हैं.

हलाला के बाद बुजुर्ग ने महिला को तलाक देने से मना कर दिया. हलाला करने वाले का कहना है कि उसे महिला अच्छी लगने लगी है, इसलिए वह अब उसको तलाक नहीं देगा. घर बचाने की गुहार तलाक और हलाला से जुदा हुआ यह जोड़ा शनिवार को मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी के पास पहुंचा और पूरा किस्सा सुनाया. फरहत नकवी ने जब निकाह-हलाला करने वाले बुजुर्ग से बात की तो उन्होंने कहा कि मैं तलाक नहीं दूंगा. फरहत नकवी का कहना है कि वह किसी भी हालात में इस मामले को हल करेंगी.

Share This Post