पहले सरकार बदली, अब बदल सकते हैं कई अधिकारी.. मध्यप्रदेश में इन IAS अधिकारियों पर रहेगी कांग्रेस सरकार की विशेष नजर

मध्य प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद अगर किसी कार्य को सबसे पहले किया जाना लगभग तय माना जा रहा है तो वो है प्रशासनिक अधिकारियों का व्यापक फेरबदल.. तमाम IAS और IPS अफसर इस लिस्ट में शामिल हैं जिनको विपक्ष में रहते हुए कांग्रेस संघी मानसिकता के अधिकारी जैसे नाम दिया करती थी..नई सरकार के बनते ही मध्य प्रदेश में बड़े पैमाने पर ब्यूरोक्रेटिक फेरबदल होगा। यह जानना दिलचस्प होगा कि किस अधिकारी का कद घटेगा और किसका पड़ेगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में  प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव और रेरा के अध्यक्ष एंटोनी डिसा की सलाह को विशेष तवज्जों दी जा रही है। ज्ञात रहे कि श्री डीसा दिल्ली में कमलनाथ के केंद्रीय मंत्री के रहते,  उनके विश्वसनीय अधिकारी के रूप में जाने जाते रहे हैं।

जहां तक मुख्य सचिव को नियुक्त करने का प्रश्न है, वरिष्ठता और अनुभव दोनों के मान से 1982 बैच के एसआर मोहंती का नाम सबसे ऊपर है और यह माना जा रहा है कि वे ही प्रदेश के अगले मुख्य सचिव होंगे। नई सरकार में जहां मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव और  सचिवों  की छुट्टी होगी वहीं कमलनाथ अपनी पसंद के  नए अधिकारियों को पदस्थ करेंगे। मुख्यमंत्री के वर्तमान प्रमुख सचिव अशोक बर्नवाल का हटना तय है लेकिन उन्हें किसी बड़े और महत्वपूर्ण विभाग की जवाबदारी दी जाएगी क्योंकि वे कमलनाथ के साथ दिल्ली में काम कर चुके है। विवेक अग्रवाल, हरी रंजन राव  का भी बदला जाना तय माना जा रहा है ।

इसी के साथ मुख्यमंत्री के लिए नेपथ्य में रहकर सत्ता सूत्र संचालित करने  वाले पावरफुल अधिकारी मोहम्मद सुलेमान का भी कद घटने के आसार हैं। सीएम के प्रमुख सचिव एस के मिश्रा,  ओएसडी अजातशत्रु और  ए के भट्ट आदि की छुट्टी तो नए मुख्यमंत्री  के शपथ लेते ही हो जाएगी क्योंकि इनके आदेश में ही इस बात का उल्लेख है कि शिवराज सिंह जब तक मुख्यमंत्री रहेंगे तब तक ही संविदा  नियुक्ति लागू रहेगी।  जिनका कद बढ़ने की संभावना है उनमें प्रमुख नाम संजय बंदोपाध्याय का लिया जा रहा है। माना जा रहा है कि 1988 बैच के संजय जो वर्तमान में अपर मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी हैं और दिल्ली में पदस्थ हैं , उन्हें कमलनाथ वापस भोपाल बुला लें और महत्वपूर्ण जवाबदारी सौंपे। उल्लेखनीय है कि मनमोहन सरकार में जब कमलनाथ केंद्रीय मंत्री थे तब संजय बंदोपाध्याय ने कई मंत्रालयों में पूरी जिम्मेदारी के साथ काम किया था और कमलनाथ उनके कार्य से काफी प्रभावित रहे हैं। इस बात की भी संभावना है कि अपनी योग्यता और कार्यकुशलता की वजह से नई सरकार प्रमुख सचिव वित्त अनुराग जैन को अपने पद पर लगातार बनाए रखना चाहेंगी। इसी प्रकार प्रमुख सचिव मलय श्रीवास्तव का कद भी बढ़ेगा । वे दिल्ली में कई मंत्रालयों में काम कर चुके हैं और उनकी छवि एक परिणाम देने वाले अधिकारी की रही है।

किसी जमाने में छिंदवाड़ा के कलेक्टर रहे निकुंज श्रीवास्तव, मनु श्रीवास्तव का कद भी बढ़ने की संभावना है। ई टेंडरिंग घोटाले को उजागर करने वाले प्रमुख सचिव स्तर के अधिकारी मनीष रस्तोगी और उनकी पत्नी दीपाली रस्तोगी का कद  भी नई सरकार में बढ़ेगा, इसमें कोई संदेह नहीं है।माना जा रहा है कि उन्हें पहले बदलाव में ही महत्वपूर्ण पदों से नवाजा जाएगा। नई सरकार में प्रमुख सचिव आई सी पी केसरी भी महत्वपूर्ण विभागों में रहेंगे और उनका कद भी बढ़ेगा।पहले फेरबदल में ही इंदौर के कमिश्नर राघवेंद्र सिंह का नाम भी आ सकता है क्योंकि वे वर्तमान मुख्य सचिव बीपी सिंह के पसंदीदा अधिकारी  हैं और इसी वजह से शायद उन्हें वहां से हटाया जाए। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के कोई एक दर्जन कलेक्टर नई सरकार के रडार पर रहेंगे जिनमें इंदौर,सागर और खंडवा के कलेक्टर का नाम  प्रमुखता से लिया जा रहा है।


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share