मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सराहा UP पुलिस के अथक प्रयासों को, साथ ही पेश किया उत्तर प्रदेश में घटते अपराध के सटीक आंकड़े को


उत्तर प्रदेश पुलिस के खिलाफ कुछ लोगों द्वारा सोची समझी साजिश के तहत किये जा रहे झूठे और भ्रामक प्रचारों के तमाम कुत्सित प्रयास उस समय दम तोड़ गये जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने अपने बयान में अपने पुलिस बल की पीठ थपथपाई और उनके कार्यों को समाज हित में किया जा रहा सराहनीय प्रयास घोषित करते हुए उसके फलस्वरूप अपराध दमन के सटीक आंकड़े प्रस्तुत किये.. उत्तर प्रदेश पुलिस की सबसे खास बात ये रही है इस बार कि वो पत्रकारिता को हथियार बना कर किये जा रहे अपराध का भी दमन अब अन्य अपराधो की तरह करने लगी है जिसका जनमानस में बहुत अच्छा फीडबैक है..

खाप पंचायतों पर तो शुरू हो जाती है बहस लेकिन बहराइच के जमशेद ने अपनी बहन के साथ जो किया उस पर ख़ामोशी क्यों ?

उत्तर प्रदेश सरकार की अटल इच्छाशक्ति और उत्तर प्रदेश पुलिस के अथक प्रयासों के बाद उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था में तेजी से सुधार होता दिखाई दे रहा है . बाकि प्रदेशो के मुकाबले उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण , डकैती , जबरन कब्जे आदि जैसे अपराध तेजी से घटे हैं . यहाँ तक कि डाकुओं के जो गिरोह दशको से जमे हुए थे उनको उखाड़ फेंका गया है.. अपराध के इस दमन में उत्तर प्रदेश पुलिस के कई वीरों ने अपने योगदान दिया है और कुछ ने अपना बलिदान भी ..

कारसेवको का नरसंहार न्याय बताने वाले मुलायम ने आजम पर कार्यवाही को बताया अन्याय.. दिया सपाईयो को एक आदेश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान के साथ उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी किया है सटीक आंकड़ा जिसके अनुसार उत्तर प्रदेश में हर प्रकार के अपराध में अपेक्षाकृत कमी दर्ज की गई है . इसमें कई अतिगंभीर और कई सामान्य श्रेणी के भी अपराध हैं . उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व व निर्देशन में माफियाओं एवं अपराधियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट की कार्यवाही करते हुए उनके द्वारा अवैध रुप से अर्जित लगभग 01 अरब, 94 करोड़, 48 लाख रुपए की अवैध सम्पत्ति की ज़ब्त की जा चुकी है.

शायद कोई और होता तो रुतबे से रौंद देता सिपाही को, लेकिन ये थे IPS सुधीर कुमार, SSP गाजियाबाद

इतना ही नहीं एक अन्य आंकड़े के अनुसार विगत ढाई वर्ष के कार्यकाल में पुलिस और अपराधियों के बीच 4,458 मुठभेड़ें हुईं, जिनमें 9,833 अपराधी गिरफ्तार किए गए, 1,484 घायल हुए तथा 94 अपराधी पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में मारे गए. इसी क्रम में वर्ष 2018 में डकैती, बलात्कार,हत्या, अपहरण, लूट जैसे अपराधों में उल्लेखनीय कमी आयी है। डकैती में 42.63 प्रतिशत, बलात्कार में 7.63 प्रतिशत, हत्या में 7.08 प्रतिशत, लूट में 22.1 प्रतिशत व फिरौती-अपहरण में 30.43 प्रतिशत की कमी आयी है..

सीमा पर रौद्र रूप में सेना.. 3 पाकिस्तानी फौजी बदल गये लाश में, 4 पाकिस्तानी चौकियां भी ध्वस्त

मुख्यमंत्री के हवाले से उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के अनुसार विगत दो-ढाई वर्ष के दौरान ने 75,000 से भी अधिक पुलिसकर्मियों की भर्ती की है। लगभग 50,000 से अधिक पुलिसकर्मियों की निष्पक्ष भर्ती प्रक्रिया अभी भी चल रही है, लेकिन कोई भी यह नहीं कह सकता कि पुलिस भर्ती के नाम पर किसी ने उससे पैसे मांगे हैं.. आतंक दमन के लिए ATS और अपराध दमन के लिए STF के सशक्तिकरण से प्रदेश सरकार को राज्य में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों पर प्रभावी अंकुश लगाने में महत्वपूर्ण सहयोग प्राप्त हुआ है..

बाबर की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में खड़े मुस्लिम पक्ष की श्रीराम मन्दिर पर दी गई दलील सवाल करती है कि कहाँ है सेकुलरिज्म ?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमें पुलिस के उस चेहरे को बदलना है, जो अंग्रेजों से हमें विरासत में मिला है। आज पब्लिक फ्रेंडली पुलिस की आवश्यकता है। जिससे अपराधी, समाज विरोधी और राष्ट्र विरोधी तत्व तो भय खाएं, लेकिन आमजन के मन में श्रद्धा एवं सम्मान का भाव जागृत हो..  इसी के साथ उन्होंने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अपराध की प्रकृति में बदलाव आया है।स्थानीय स्तर पर ही नहीं, बल्कि अंतर्राज्यीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी यह परिवर्तन देखने को मिल रहा है।

एक नारी के साहस और पराक्रम से हार गये दुर्दांत नक्सली.. स्वीकार की ऐसी चुनौती जो बन जायेगी इतिहास

मुख्यमंत्री के अनुसार ऐसी स्थिति में महत्वपूर्ण है कि आधुनिक तकनीक के अनुरूप हम खुद में कितना परिवर्तन ला पाते हैं.. इसी में आगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज साइबर क्राइम के नए-नए तरीके सामने आ रहे हैं तब हमारा पुलिस बल भी उसके लिए प्रशिक्षित हो सके, इसके लिए ने लखनऊ में पुलिस एवं फॉरेंसिक यूनिवर्सिटी बनाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया है। जनसमस्याओं के निस्तारण व लोगों में विश्वास पैदा करने के लिए पुलिस को अभी और भी बदलाव लाने की जरूरत है।

चुनाव से पहले के पार्टी के नारे में है “खुदा हाफिज” .. क्या जीतेगी वो इस नारे के सहारे ?

हम जनता की सुरक्षा व सुविधा के लिए बेहतर प्रयास कर सकते हैं।पुलिस की छवि में काफी बदलाव आया है, लेकिन जिनका दृष्टिकोण ही सीमित है, उन्हें यह नहीं दिखता.. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने ये तमाम उद्बोधन कालपी तहसील में बने बुंदेलखंड के पहले पुलिस प्रशिक्षण केंद्र के उद्घाटन के अवसर पर कही . उन्होंने आगे कहा कि जितना हम प्रशिक्षण में दक्ष होंगे, उतना ही फील्ड में चुनौतियों एवं अपने कार्यों के लिए खुद को योग्य पाएंगे। इन ट्रेनिंग स्कूल को केवल पुलिस प्रशिक्षण तक सीमित नहीं रखना चाहिए।

राजनीति की भगवा सुनामी. कांग्रेस का मुस्लिम विधायक शामिल हुआ शिवसेना में, हाथ में थामा भगवा ध्वज

देखिये उत्तर प्रदेश सरकार का ट्विट –

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...