Breaking News:

बीबी से बोला शौहर- “तुम पर जितना हक मेरा है उतना ही अब्बू का भी है, इसलिए अब अब्बू के पास जाओ” … बीबी ने मना किया तो किया ये हाल


तुम मेरी बीवी जरूर हो तथा मैं आज भी तुमको प्यार करता हूँ लेकिन एक बात सुनो, मेरे अब्बू भी तुम्हें प्यार करते हैं, इसलिए तुम्हारे साथ जो में करता हूँ वही मेरे अब्बू भी करेंगे. इससे तुम्हारा न कुछ बिगड़ जायेगा न घट जायेगा. अब अब्बू के पास जाओ तथा उनके साथ शारीरिक संबंध बनाते हुए उनकी ख्वाहिश पूरी करो. शौहर के मुंह से ऐसी बात सुनकर बीवी के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई तथा उसने ऐसा करने से इंकार कर दिया. बीवी के इनकार करने पर शौहर भड़क गया तथा उसे तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया. इसके बाद महिला ने एसपी से गुहार लगाई.

भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा, कश्मीर घाटी के मुस्लिम इलाकों में दोबरा बसायें जायेंगे विस्थापित हिंदू…

मामला हरियाणा के यमुनानगर का है. महिला ने एसपी को बताया कि उसका निकाह 15 जनवरी 2005 को जगाधरी के युवक से हुआ था. निकाह के दौरान पिता ने हैसियत से बढ़कर दहेज दिया. जिसमें तकरीबन 5 लाख रुपए खर्च हुए थे. निकाह के तुरंत बाद से उसके ससुर उस पर बुरी नियत रखते थे. उन्होंने कई बार महिला के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की. जब इस बारे में पीड़िता ने अपने पति और सास को बताया तो दोनों ने ही उसी को दोषी ठहरा दिया और यकीन नहीं किया.

दलित नाबालिग बच्ची का गैंगरेप पुलिस के ही खाली मकान में करके इमरान व उसके साथियों ने दी समाज व क़ानून को चुनौती

पीड़िता के मुताबिक, जब उसका पति काम पर चला जाता था तो उसकके ससुर उसके कमरे में आकर तांका-झांकी करते थे. पीड़िता ने ब्ग्ताया कि इसी दौरान उसकी सास का निधन हो गया. सास के निधन के बाद उसके ससुर की हिम्मत और भी ज्यादा बढ़ गयी. पीडिता ने बताया कि एक दिन तो अचानक से ससुर उसके कमरे में आया और जबरदस्ती करने लगा. उन्होंने सम्बंध बनाने के एवज में कहा कि वो अपना 50 गज का प्लॉट उसके नाम करा देगा और खर्च भी उठाएगा लेकिन पीड़िता ने ससुर को धक्के मारकर कमरे से बाहर कर दिया.

वहां गाय भी कटती थी और हथियार भी बनते थे.. जबकि महबूब आलम माना जाता था इलाके का सभ्य इंसान

पीडिता के मुताबिक़, उसने इस बात को पति और देवर को बताया, तो उन्होंने लात और घूसों से पीटा तथा ससुर की बात मानने को कहा. उसने इंकार कर दिया तो 25 जून को उन्होंने पीड़िता को बच्चों सहित घर से निकाल दिया. जब उसने 100 नंबर पर मदद के लिए फोन किया, तो पति ने तैश में आकर उसे तीन तालाक दे दिया. पूरी घटना के बड़ा पुलिस स्टेशन पहुंची पीड़िता को जब मदद नहीं मिली तो उसने एसपी ऑफिस का दरवाजा खटकाया तथा न्याय की गुहार लगाई.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...