क्या हाल हो रहा उस संजू राणा का जो पहले था शहजाद.. क्या यही है धर्मनिरपेक्ष भारत ?

इस घटना पर वो एक भी बुद्धिजीवी या कथित सेक्यूलर राजनेता अपनी जुबान नहीं खोल पा रहा है जो धर्मनिरपेक्षता के गीत गाते हुए नहीं थकते हैं, धार्मिक स्वतंत्रता की बात करते हैं. वो शहजाद था.. उसे सनातनी संस्कार पसंद आये तो उसने इस्लाम त्याग कर भगवा ओढ़ लिया तथा इस्लाम त्यागकर हिंदुत्व को अपना लिया. इस्लाम त्यागने के बाद शहजाद ने अपना नाम संजू राणा रख लिया. लेकिन शहजाद का संजू बनना इस्लामिक कट्टरपंथियों को रास नहीं आ रहा है.

मामला उत्तर प्रदेश के शामली का है जहाँ इस्लाम छोड़कर हिदू धर्म अपनाने वाले शहजाद उर्फ संजू राणा पर मजहबी उन्मादियों ने हमला कर दिया. शोर मचाने पर हमलावर जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए. उन्होंने नामजद तहरीर दी है. कार्रवाई न होने पर राणा ने मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्महत्या करने की चेतावनी दी. बता दें कि हरेंद्र नगर निवासी शहजाद उर्फ संजू राणा ने पिछले वर्ष मुस्लिम धर्म छोड़कर हिदू धर्म अपना लिया था. शहजाद ने अपना नाम बदलकर संजू राणा रख लिया था. संजू ने कलक्ट्रेट पहुंचकर डीएम को भी अवगत कराया था. उसने कलक्ट्रेट के मंदिर में पूजा-अर्चना कर श्रीराम के जयकारे भी लगाए थे.

संजू राणा का कहना है कि उसके धर्म परिवर्तन करने से मोहल्ले के कुछ लोग नाराज हो गए थे और उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे थे. इस पर पुलिस ने संजू राणा की सुरक्षा में दो पुलिसकर्मी तैनात कर दिए थे. आरोप है कि गुरुवार की देर शाम संजू राणा जब अपने घर में बैठा हुआ था तभी कई लोग वहां पहुंचे तथा उसके साथ गाली गलौच करते हुए लाठी -ठंठो से हमला बोल दिया, जिसमें वह गंभीर रुप से घायल हो गया. शोर शराबा होने पर सुरक्षा में तैनात सिपाही आया जिसको देख आरोपी जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए.

घटना के बाद संजू राणा ने कोतवाली पहुंचकर मोहल्ले के ही छह लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर देकर कारवाई की मांग की. पीड़ित ने पुलिस को तहरीर देते हुए बताया कि दंबगों के खौफ के कारण पीड़ित की पत्नी और बच्चे यहां से चले गए हैं। पूर्व में भी उस पर कई बार हमले हो चुके हैं लेकिन पुलिस आरोपियों के खिलाफ कोई ठोस कारवाई नहीं कर रही है.

उन्मादियों के हमले से परेशान संजू राणा ने चेतावनी दी है कि अगर मामले में कोई कारवाई नहीं होती है तो वह लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के आवास पर जाकर आत्महत्या कर लेगा, जिसका जिम्मेदार शामली प्रशासन होगा. उधर, कोतवाल सुभाष सिंह राठौर का कहना है कि इस मामले में संजू राणा ने तहरीर दी है, जांच कर कारवाई की जाएगी. साथ ही सुरक्षा में तैनात सिपाही को भी कड़ी फटकार लगाते हुए संजू राणा के साथ रहने को कहा है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW