भगवा गमछे वालों को डांट कर भगाने वालीलड़की ने जब अपने प्रेमी नाजी अहमद से कहा शादी के लिए तो हुआ ये हाल

उसके लिए हिन्दू संगठन हमेशा से उन्मादी रहे, सांप्रदायिक रहे. वह हमेशा से कहती थी कि उसके लिए धर्म-मजहब मायने नहीं रखता बल्कि वह इंसानियत को मानती है. लव जिहाद जैसे शब्द उसके लिए फिजूल की बातें थी तथा भगवा गमछा धारण करने वालों से उसे नफरत थी. लेकिन फिर ऐसा हुआ कि उसको न सिर्फ भगवा गमछा वाले बल्कि उनकी हर बात न सिर्फ याद आने लगी बल्कि सच भी लगने लगी.

अपनी 10 साल की भांजी को भी नहीं छोड़ा बलात्कारी जानूखान ने.. पूरा गाँव हैरान है इस दरिंदगी से

दरअसल वह नाजी अहमद नामक युवक से प्यार करती थी तथा कहती थी कि नाजी बहुत अच्छा है. युवती का मानना था कि नाजी अहमद उसकी जिन्दगी के लिए परफेक्ट है तथा वह उसी से शादी करेगी. मामला पूर्वोतर के राज्य असम के होजाई जिले के दोबोका शहर का है. बताया गया है कि नाजी अहमद की युवती से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी. इस दौरान दोनों में प्यार हो गया तथा दोनों ने एकदूसरे से शादी का वादा किया. फिर कहानी में ऐसा मोड़ आया कि नाजी अहमद ने युवती पर कुल्हाड़ी से वार किया तथा उसकी जान लेने की कोशिश की.

22 जून: बलिदान दिवस सेठ अमरचन्द बांठिया.. जिंदगी भर कमाई पूरी पूँजी दे दी क्रांतिकारियों को जिसे अंग्रेजो ने माना अपराध और दे दी फांसी

बताया गया है कि स्थानीय निवासी एक लड़की की कुछ समय पहले फेसबुक पर नाज़ी अहमद नामक युवक से दोस्ती हो गई थी, जिसके बाद दोस्ती प्यार में बदल गई. फेसबुक पर दोस्ती के बाद ये दोनों दूसरे से ​मुलाकातें भी करने लग गए थे, साथ ही दोनों ने एक दूसरे से शादी के वादे भी कर डाले. बताया गया है कि फिर नाजी की जिन्दगी में एक अन्य लडकी आ गई, जिसके कारण नाजी ने पहले भी युवती को रास्ते से हटाने के लिए कुल्हाड़ी से काटकर उसकी जान लेने की कोशिश की. फ़िलहाल इसे लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है तथा पुलिस मामले की जांच कर रही है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW