Breaking News:

इस बार के पवित्र कुम्भ मेले में पुलिस वालों के चयन की प्रक्रिया बता रही है कि UP में किसी योगी का राज है

भले ही इस से पहले आज़म खान जैसे एकतरफा विचारधारा के मंत्रियों को कुम्भ जैसे महत्वपूर्ण और हिन्दुओ के हिसाब से सर्वोच्च पर्व का प्रभार दे दिया जाता था लेकिन इस बार जो कुछ देखा और सुना जा रहा है उसके हिसाब से कोई भी ये अनुमान लगा सकता है कि इस बार प्रदेश का शासन किसी योगी के हाथो में हैं . ज्ञात हो कि पिछले कुछ समय से कुम्भ अव्यवस्था के चलते संतों के गुस्से और धरने आदि के लिए जाना जाता था लेकिन बदलते समय में जब एक संत के हाथ में सत्ता की बागडोर है तब जो बदलाव देखने को मिल रहा है वो आने वाले धार्मिको के लिए एक बेहद सुखद अनुभूति है .

मीडिया रिपोर्ट से आ रही खबरों के मुताबिक इस बार के आयोजित होने वाले कुंभ मेले की सुरक्षा व्यवस्था के लिए शाकाहारी और शराब न पीने वाले पुलिसकर्मियों की ज़रूरत है. कुंभ मेला प्रशासन ने बाकायदा विज्ञापन जारी कर नौजवान, शाकाहारी, नशा और धूम्रपान न करने वाले पुलिसकर्मियों से आवेदन करने के लिए कहा है. यहीं नहीं , उन पुलिसवालों के पास चरित्र प्रमाण पत्र भी होना चाहिए. इलाहाबाद में अगले साल 15 जनवरी से कुंभ मेला शुरू हो रहा है. सुरक्षा व्यवस्था में क़रीब दस हज़ार जवान नियुक्त किए जाएंगे जिनकी तैनाती अक्तूबर से शुरू हो जाएगी.

योगी आदित्यनाथ के इस कदम के बाद आने के लिए तैयार भक्तों में ख़ुशी की लहर है . इस से पहले भी ऐसी तमाम तैयारियां चर्चा का विषय बनी हैं जो पहले कभी देखने को नहीं मिली हैं . अभी हाल में ही आने वाले धार्मिको की सुविधा के जवाहर लाल नेहरु की रास्त में पड़ने वाली मूर्ति को हटाना भी चर्चा का विषय बना रहा जिस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बहुत हंगामा किया था . फिलहाल पुलिस विभाग ऐसे अधिकारियो की तलाश में जुट गया है .

 

 

Share This Post