Breaking News:

एक ऐसा विधायक जिसने मुख्यमंत्री को भेज दिया इस्तीफ़ा.. वो अपनी ही सरकार में परेशान है माफियाओं से.. आखिर कौन है वो और कौन सी है सरकार ?

विधायक पांची लाल मेड़ा जो अपनी ही सरकार में शराब माफियाओं से इतने ज्यादा परेशान हो गये कि उन्होंने मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेज दिया. अपने ही विधायक के इस्तीफे से न सिर्फ सरकार बल्कि उनकी पार्टी तक में खलबली मच गई. विधायक ने साफ कर दिया कि उनके क्षेत्र में शराब माफियाओं का आतंक सर चढ़कर बोल रहा है तथा प्रशासन उनको संरक्षण दे रहा है. आपको बता दें कि शराब माफियाओं से तंग आकर मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेजने वाले पांची लाल मेड़ा मध्य प्रदेश के धार जिले की धरमपुरी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक हैं.

संबित पात्रा के हाथों में भगवान् की मूर्ति का विरोध करने वाली कांग्रेस के नेता के मजार पर चढ़ाई चादर

कांग्रेस विधायक पांची लाल मेड़ा ने शुक्रवार को मीडिया से कहा, “नर्मदा नदी के किनारे और कई शिक्षण संस्थाओं के पास शराब दुकानें खुली हैं. मैं लगातार इन दुकानों को बंद करने की मांग कर रहा हूं, मगर आबकारी विभाग और जिला व पुलिस प्रशासन का ठेकेदारों को खुला संरक्षण हासिल है.” उन्होंने कहा, “शराब ठेकेदार के इशारे पर मेरा लगातार अपमान किया जा रहा है. पिछले दिनों ठेकेदार ने कुछ महिलाओं को उकसाकर उनसे अभद्र भाषा में फोन कराया. इस बात की शिकायत की तो पुलिस अधीक्षक ने मुझे थाने जाने को कहा. जब मैं थाने पहुंचा तो ठेकेदार कुछ महिलाओं को लेकर थाने पहुंचा, जहां ठेकेदार व महिलाओं ने मुझे घेर लिया. इससे पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया तो उन्होंने पीछे दरवाजे से निकल जाने को कहा.”

जमीयत ने जारी की है जायज और हराम की लिस्ट.. आप भी जानिये कि क्या जायज और क्या नाजायज ?

विधायक मेड़ा का आरोप है कि थाने में उन्हें चार घंटे तक बैठना पड़ा, उन्हें अपमानित किया गया. वे थाने में रहे, मगर कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं आया. उन्होंने कहा कि मैं कांग्रेस का विधायक हूँ लेकिन कांग्रेस की सरकार होने के बाद भी शराब माफिया उनको तंग कर रहे हैं, इस कारण उन्होंने इस्तीफा भेजा है. विधायक मेड़ा द्वारा सीएम कमलनाथ को इस्तीफा भेजने की खबर आने के बाद कांग्रेस में हडकंप मच गया.

गौरतलब है कि राज्य में कांग्रेस के लिए एक-एक विधायक महत्वपूर्ण है, क्योंकि राज्य में कांग्रेस की सरकार बसपा, सपा व निर्दलीय विधायकों के समर्थन से चल रही है. राज्य की 230 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 114 विधायक हैं, वहीं भाजपा के 109 विधायक हैं। बहुमत के लिए 116 विधायकों की जरूरत है और यह आंकड़ा दूसरों के सहयोग से हासिल किया गया है. ऐसे में एक विधायक का इस्तीफे का ऐलान कांग्रेस के लिए मुसीबत बन गया है. इसके बाद  मुख्यमंत्री सहित कांग्रेस के तमाम बड़े नेता उन्हें मनाने में जुट गये हैं.

“मिशन शक्ति” को लेकर विपक्ष ने पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव आयोग में की थी शिकायत.. अब चुनाव आयोग ने सुनाया ये फैसला

Share This Post