उस अनाथ को 8 माह की उम्र में लोया था गोद, फिर पढ़ा-लिखाकर बनाया था इंजीनियर.. फिर उस लड़की की जिंदगी में आया इखलाक और फिर मिली 2 लाशें

कुछ ख़बरें ऐसी होती हैं जिन पर भरोसा करना नामुमकिन होता है लेकिन इसके बाद भी ऐसी ख़बरों पर भरोसा करना पड़ता है. ये ऐसी खबरें होती हैं जिनसे मानवीय संवेदना तथा इंसानियत तो शर्मशार होती ही है, साथ ही आपसी रिश्तों के बीच का विश्वास भी कमजोर होता है. ये खबर भी ऐसी खबरों में से एक है, जिसे जानकर लोगों के होश उड़ गये.

रक्त से नहाया सेक्यूलर श्रीलंका.. बौद्धों पर अत्याचार के समय खामोश थे ईसाई, अब ईस्टर पर वो बने निशाना.. रोहिंग्या कर चुके हैं घुसपैठ

मामला महाराष्ट्र के नागपुर शहर का है जहाँ इखलाक नामक युवक के प्यार में पड़कर एक युवती अपने माता-पिता के खून की प्यासी बन गई तथा अखलाक की मदद से उनकी ह्त्या कर दी. इस घटना के बारे में जब लोगों को पता चला तो लोग चौंक गये क्योंकि युवती ने अपने जिन माता-पिता की ह्त्या की थी, उन्होंने उस युवती को उस समय गोद लिया था जब वह मात्र 8 माह, की उम्र में अनाथ हो गई थी. इसके बाद उन्होंने उस अनाथ को पढ़ा-लिखाकर इंजीनियर बनाया लेकिन उसने उन्ही की जान ले ली.

एक और मदरसा, एक और बलात्कार.. लेकिन बात सिर्फ वहीं नहीं रुकी, उसके आगे भी जारी रहा अत्याचार

पुलिस के अनुसार, नागपुर के दत्तवाड़ी परिसर में रहने वाले शंकर अतुलचंद्र चंपाती (72) और उनकी पत्नी सीमा शंकर चंपाती (64) की हत्या का मामला पिछले रविवार रात सामने आया था. वेस्टर्न कोल फील्ड्स से रिटायर हुए शंकर चंपाती ने दुर्घटना में अपने मां-बाप को गंवाने वाली ऐश्वर्या को गोद लिया था. उस समय उसकी उम्र महज 8 महीने थी. चंपाती दंपती ने उसका पालन-पोषण किया और पढ़ा-लिखाकर इंजीनियर बनाया. ऐश्वर्या नागपुर में एक कंपनी में नौकरी भी कर रही थी.

बांग्लादेशियों को बुलाया गया था प्रचार के लिए.. पहले एक वापस किया गया था, अब दूसरे के लिए आया नया आदेश

इस बीच ऐश्वर्या की जिन्दगी में इकलाख आया तथा दोनों की नजदीकियां बढ़ी. जब यह जानकारी उसके पिता को लगी तो वह चिंतित हो उठे.  युवती के पिता को इकलाख के मंसूबे ठीक नहीं लगे तथा उन्होंने घर बेचकर पुणे जाने का मन बना लिया था. इस पर ऐश्वर्या ने इकलाख से मिलकर अपने माता-पिता को ही ठिकाने लगाने की योजना बनाई. रविवार दोपहर को ऐश्वर्या ने खरबूजे में बेहोशी की दवा मिलाकर शंकर और सीमा को खाने को दिया. उनके बेहोश होने पर ऐश्वर्या घर से बाहर गई. इस बीच इकलाख घर में घुसा और उसने धारदार हथियार से उनकी हत्या कर दी.

हमे दिया गया था “चाइनीज टार्चर”- मेजर उपाध्याय.. अपने ही लोगों को मारने के लिए अपनाये गए थे मौत से भी भयानक विदेशी तरीके

ह्त्या करने के बाद इखलाक वहां से चला गया. रात को साढ़े आठ से नौ बजे ऐश्वर्या घर पहुंची, तब उसने माता-पिता की मौत की सूचना पड़ोसियों और पुलिस को दी तथा दहाड़ें मरकर रोने लगी. पुलिस ने दोनों के शव का  पोस्टमार्टम करवाया तथा जांच शुरू की. इसके बाद जो तथ्य सामने आया, उससे न सिर्फ पुलिस बल्कि हर कोई चौंक गया. ऐश्वर्या और मोहम्मद इकलाख ने तीन दिन पहले ही अपने फेसबुक, ट्विटर अकाउंट बंद किए थे. पुलिस को जब यह बात पता चली तो उन्होंने ऐश्वर्या के बारे में और गहन जानकारियां जुटाई. पुलिस ने सख्ती से पूंछताछ की तो  उसने राजा राज उगल दिया कि किस तरह उसने इखलाक से मिलकर अपने माता पिता की ह्त्या को अंजाम दिया था.

पहले दलित लड़की से की छेड़छाड़, फिर तोड़ डाली अंबेडकर की प्रतिमा… अब तक नहीं दिखे वहां एक भी तथाकथित मसीहा

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post