गौ हत्यारों को पकड़ने गयी पुलिस टीम पर कश्मीरी अंदाज़ में भयानक पत्थरबाजी.. हिन्दू विरोधियो से मिले मनोबल से पुलिस पर वार

हिन्दू विरोधियों द्वारा परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मिले समर्थन के बाद उन्मादी गोतस्करों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि उन्होंने पुलिस बल पर हमला करना शुरू कर दिया है. बता दें कि बुलंदशहर में हुई घटना के बाद पुलिस ने गौकशी करने वालों की तलाश शुरू कर दी है. इसके चलते पुलिस ने गौकशी के आरोपियों की तलाश में उनके घरों में छापामारी की. छापामारी के दौरान पुलिस ने तीन अलग-अलग घरों से चार गौवंशीय पशु, तीन पड्डे और पशुओं का मांस और औजार बरामद किए. पशु तस्करों ने पुलिस टीम पर हमला भी किया.

शनिवार को कोतवाल श्रीकांत द्विवेदी ने थाना पुलिस और पीएसी के साथ कस्बे के मोहल्ला नई बस्ती निवासी अफजाल के घर छापेमारी की तो पुलिस को वहां तीन पड्डे बंधे हुए मिले. वहीं पर पशुओं को काटने के औजार रखे हुए थे. पुलिस को देखकर घर के लोग फरार हो गए. पुलिस ने पड्डों और औजारों को अपने कब्जे में ले लिया. कस्बे के मोहल्ला कुरैश नगर निवासी सलीम के घर छापामारी करने पर पुलिस को पशुओं का कटा हुआ मांस व औजार मिले. पुलिस को घर में देख मांस काटने वाले फरार हो गए. पुलिस ने मांस और औजारों को कब्जे में लेने के बाद मांस परीक्षण के लिए भेज दिया. वही खिजरपुर गांव के चुन्ने मियां के घर छापामारी करने पर पुलिस को उसके घर चार गौवंशीय पशु बंधे हुए मिले. लोगों से पूछताछ करने पर उन्होंने पुलिस को बताया कि चुन्ने मियां फर्रुखाबाद से गौवंशीय पशुओं को खरीद कर लाने के बाद कस्बा सेंथल में गौवंशीय पशुओं का वध कर उनके मांस को बेच दिया करते थे. पुलिस ने उनके गौवंशीय पशुओं को अपने कब्जे में ले लिया.

पुलिस ने कस्बे के मोहल्ला नई बस्ती में अफजाल पुत्र सूखा के घर छापेमारी की तो उसके घर में तीन पड्डे बंधे हुए थे. वह उनका वध करने की तैयारी कर रहा था. पुलिस टीम को देख उसने पुलिस पर हमला कर दिया. पुलिस उसे पकडती इससे पूर्व वह घर फरार हो गया. रात तक पुलिस आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी करती रही. इसके साथ ही पुलिस ने टांडा सादात, रिछोला किफायतुल्ला, टहा प्यारी नवादा, बरखन आदि गांवों में भी गौवंशीय पशुओं का वध करने वालों के घरों में छापेमारी की.

Share This Post

Leave a Reply