बुर्का बैन की आंशिक शुरुआत भारत के उसी कोने से जहाँ के लोगों को बिंदास बोल में सतर्क किया था सुरेश चव्हाणके ने

श्रीलंका आतंकी हमले के बाद सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने अपने बिंदास बोल में जहाँ के लोगों को सतर्क किया था, वहां बुर्का बैन की आंशिक शुरुआत हो गई है.  खबर के मुताबिक़, दक्षिण भारत के राज्य केरल की मुस्लिम एजुकेशन सोसायटी ने अपने कॉलेजों में मुस्लिम छात्राओं के मुंह ढंकने और बुर्का पहनकर आने पर रोक लगा दी है. बता दें कि सुरेश चव्हाण के जी ने बिंदासबोल के माध्यम से भारत में बुर्का बैन करने की मांग की थी, जिसे देशभर से समर्थन भी मिला था.

देवभूमि में बढ़ रहा संक्रमण तो जनता खुद क़ानून ले रही हाथ में.. फूंक दिया गया जीशान का घर

आपको बता दें कि मुस्लिम एजुकेशन सोसायटी कालीकट ने एक सर्कुलर पास किया है जिसमें कहा गया है कि सोसायटी के सभी स्कूलों और कॉलेजों में बुर्के पर प्रतिबंध लगा दिया जाए. मुस्लिम एजुकेशन सोसायटी द्वार रोक लगाने के बाद केरल के मलप्पुरम जिले में स्थित सोसायटी एक कॉलेज ने छात्राओं के बुर्का पहनकर आने और मुंह ढंकने पर रोक लगा दी है. कॉलेज ने कहा है कि अब छात्राएं कॉलेज में बुर्का पहनकर नहीं आयेंगी.

दरिंदों के निशाने पर हैं मासूम.. एक और बच्ची का जीवन कुचल गया दरिंदा मुजीब

ज्ञात हो कि जब सुरेश चव्हाणके जी ने बिंदास बोल में मांग की कि जिस तरह से श्रीलंका में बुर्का बैन किया गया है, वैसे ही हिंदुस्तान में  भी बुर्का बैन किया जाए..तो सुदर्शन की इस मांग का प्रखर हिन्दू राष्ट्रवादी राजनैतिक दल शिवसेना ने भी इस मांग का समर्थन किया था तथा अपने मुखपत्र सामना में कहा था कि रावण की लंका में बुर्का बैन हो चुका है तो अब श्रीराम की अयोध्या में भी होना चाहिए. जिस तरह से केरल की मुस्लिम सोसाइटी द्वारा बुर्का बैन किया गया है, उससे उम्मीद जगी है कि देशभर में बुर्का बैन की मांg नसिर्फ जोर पकड़ेगी बल्कि बुर्का बैन भी होगा.

लोकसभा चुनाव को देखते हुए चंदौली जनपद में चलाया गया वाहन चेकिंग अभियान

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post