Breaking News:

वोट के बदले नोट नहीं बल्कि चेक बंट रहा उस प्रदेश में जहाँ का मुख्यमंत्री सेकुलरों के लिए एक मिशाल है

ये घटना किसी बीजेपी शासित राज्य ही नहीं है तथा न ही बीजेपी के किसी नेता ने ये किया है .. लेकिन अगर ये बीजेपी के नेता ने किया होता तो अभी तक देश में हंगामा मच गया होता कि सत्ता के मद में मदहोश होकर लोकतंत्र की ह्त्या की जा रही है. लेकिन वोट के बदले नोट नहीं बल्कि चेक बांटने का ये मामला उस राज्य से सामने आया है जहाँ के मुख्यमंत्री को सेक्यूलरों की एक मिशाल माना जाता है तथा वो मुख्यमंत्री खुद को संविधान का सबसे बड़ा हितैषी बताती हैं.

5 अप्रैल- दांतेवाडा में नक्सलियों से 2010 के युद्ध में अमर हुए CRPF के 73 योद्धाओं को शत-शत नमन

नोट के बदले चेक बांटने का ये मामला पश्चिम बंगाल का है जहाँ के  तृणमूल कांग्रेस के एक नेता का वीडियो सामने आया है जिसमें वह लोगों को चेक बांटते नजर आ रहा है. वोटों के बदले चेक बांटने वाला यह नेता तृणमूल कांग्रेस का पंचायत प्रधान है. वीडियो में उसे धमकी देते हुए सुना जा रहा है कि अगर लोगों ने तृणमूल कांग्रेस को वोट नहीं दिया तो इसका अंजाम बुरा होगा. चेक बांटने के क्रम में उसने यह भी कहा कि ‘दीदी ने तोहफे में चेक दिया है और लोगों के पहचान पत्र उनके कब्जे में है.’

एक और विपक्षी नेता का दावा… “हिन्दू राष्ट्र बनाने की कोशिश हो रही है भारत को”

मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, टीएमसी के इस नेता का नाम मोदस्सुर हुसैन है जो दक्षिण 24 परगना जिले का पंचायत प्रधान है. चेक की राशि 2 हजार रुपए से लेकर 5 हजार रुपए तक है. वीडियो में नेता ने यह भी कहा कि चेक दीदी (ममता बनर्जी) ने दिए हैं इसलिए आम चुनाव में वोट तृणमूल कांग्रेस को ही देना है. पहले चरण के 100 परिवारों को चेक देने की बात कही गई जिसे बाद में बढ़ाकर 600 परिवार करने का उसने आश्वासन दिया.

#Vote4Nation महाअभियान के सारथी बने सुरेश चव्हाणके जी.. नागपुर के NIT कालेज में छात्र- छात्राओं को मतदान के लिए किया जागरूक

मोदस्सुर हुसैन बंद दरवाजे के पीछे हुई मीटिंग में बोल रहा है, ‘ये चार शब्द सबको दिमाग में रखना होगा-चेक दीदी ने दिए हैं, इसलिए अगले चुनाव में वोट हमें ही देना है क्योंकि चेक हम तुम्हें दे रहे हैं. मैं साफ कह रहा हूं कि वोट हमें नहीं दिया तो तुम लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी…..यह मत भूलो कि हमारे पास तुम्हारा असली फोटो पहचान पत्र है. अभी हम तुम्हें असली पहचान पत्र की फोटो कॉपी दे रहे हैं.’ ममता दीदी के नेता ने आगे कहा कि हमेशा याद रखो कि मृत्यु होने के बाद तुम्हें 2 लाख रुपए नहीं मिलते. इसलिए हमें वोट देना. हमारी उम्मीदवार मिमी चक्रवाती हैं, इसलिए तुम्हें जोराफूल (तृणमूल) चुनाव चिन्ह पर वोट डालना है. मैं साफ कह रहा हूं कि मौजूदा एसडीओ और अन्य अधिकारियों के बावजूद हमें ही वोट देना है. दीदी ने चेक देने का वादा किया था जिसके मुताबिक ये बांटा जा रहा है.

4 अप्रैल- 1857 क्रान्ति की रणचंडी वीरांगना झलकारी बाई ने आज ही युद्ध भूमि में प्राप्त की थी वीरगति.. क्या सच में मिली आज़ादी “बिना खड्ग बिना ढाल” ?

टीएमसी नेता ने आगे कहा कि अगली बार 2 हजार, 4 हजार और 2500 के चेक देखने को मिलेंगे. आगे और भी पैसा मिल सकता है. हो सकता है किसानों को ज्यादा मिले. अगली बात, मिमी चक्रवर्ती जब मेला ग्राउंड में आएं तो सभी लोगों को वहां मौजूद रहना है. आपको बता दें कि टीएमसी ने दवपुर निर्वाचन क्षेत्र से मिमी चक्रवर्ती को टिकट दिया है तथा नोट के बदले चेक बांटने वाला मोदस्सुर हसन कुछ दिनों से उनका प्रचार अभियान संभाल रहा है.

कांग्रेस के नेताओं पर शारीरिक शोषण का आरोप लगाने वाली महिला ने अब किया उस से भी बड़ा काम ..

Share This Post