बेटे की बीबी इतनी पसंद आई मौलवी को कि 60 साल की बीबी पर ही बरसा दिया कहर… रिश्तों पर हवस का खंजर


आखिर वह कौन सी सोच है जो हवस की भूख में इतनी ज्यादा अंधी हो जाती है कि इसकी पूर्ती के लिए वह रिश्ते-नाते की सारी मर्यादाओं को तार-2 कर देती है? आखिर वह कौन सी सोच है जो हवस की भूख में इतनी ज्यादा अंधी हो जाती है कि वह अपनी पुत्रबधू अर्थात अपने बेटे की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाती है? यही नहीं बल्कि ये सोच इसके लिए वह अपनी 60 साल की बीबी को भी तीन तलाक देकर घर से निकाल देती है. बेटे की पत्नी बेटी के सामान होती है लेकिन उस मौलवी को अपने बेटे की पत्नी इतनी ज्यादा पसंद आई कि इसके लिए उसने अपनी 60 वर्षीय बीबी को तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया.

मामला उत्तर प्रदेश के बरेली जनपद के बहेड़ी थाना क्षेत्र का है. पीड़िता अर्जुमंद जाफ़री का निकाह 19 साल पहले उत्तराखंड के सितारगंज के मौलवी व मदरसा संचालक सय्यद सिराज अहमद उर्फ (मुन्ने मियां) से हुआ था. पीड़िता ने बताया कि पहली बीवी के मरने के बाद सय्यद सिराज अहमद ने उनके साथ दूसरा निकाह किया. उस वक्त उनकी पहली बीवी से उनके आठ बच्चे थे. पीड़िता का आरोप है कि पत्नी के देहांत के बाद मौलवी ने बच्चों को न बता कर धोखा देकर दूसरा निकाह कर लिया.

पीड़िता अर्जुमंद जाफ़री ने बताया कि निकाह के कुछ साल बाद मौलवी ने अपने बेटे की बीबी के साथ ही अवैध संबंध बना लिए. अर्जुमंद जाफरी ने जब इसका विरोध किया तो घर में उनके बीच अनबन शुरू हो गई. अर्जुमंद जाफरी जब अपने शौहर के अवैध संबंधों में रोड़ा बनी तो मौलवी ने शादी के 19 साल बाद अपनी बीवी को तीन तलाक देकर उसे घर से बाहर निकाल दिया. इसके पीड़िता ने बहेड़ी थाने में तहरीर देकर अपने मौलवी पति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share