नदीम द्वारा बेटी के अपहरण की शिकायत गंगराम ने पुलिस से की तो पीट-पीट कर मार डाला उन्मादियों ने.. चरम पर चरमपंथ

अब वो सभी कथित धर्मनिरपेक्षता तथा लोकतंत्र के पैरोकार कथित बुद्धिजीवी, अवार्ड वापसी गैंग, खान मार्केट गैंग कथित लिबरल मौन हो गये हैं. उनके लिए मजहबी उन्मादियों की भीड़ द्वारा गंगाराम की क्रूरतम ह्त्या मॉब लिंचिंग नहीं है. लेकिन अगर गंगाराम का नाम अख़लाक़ होता, पहलू खान होता, रकबर होता तो अभी तक लोकतंत्र खतरे में आ गया होता लेकिन चूँकि मृतक का नाम गंगाराम है तथा उसकी ह्त्या मजहबी उन्मादियों ने पीट पीट कर की है तो इन लोगों के लिए ये क्रूरतम वारदात मॉब लिंचिंग नहीं है और न ही गंगाराम की ह्त्या से लोकतंत्र खतरे में आया है.

दो युवकों व उनके अब्बू ने पहले किया बलात्कार और अब कहा कि बनो मुसलमान.. नरक से भी बदतर हुई महिला की जिन्दगी.. घटना सेक्यूलर भारत की

मामला उत्तर प्रदेश के डिलारी थानाक्षेत्र के पीपली उमरपुर गांव का है जहाँ को अगवा करने की शिकायत पुलिस से करने पर आरोपियों ने उसके पिता गंगाराम को पीट-पीटकर मार डाला. इसके बाद क्षेत्र में सांप्रदायिक तनाव उत्पन हो गया तथा घटना से गुस्साए लोगों ने लिंक रोड पर शव रखकर प्रदर्शन किया. तनाव को देखते हुए गाँव में पुलिस फ़ोर्स तैनात करना पड़ा. फिलहाल पुलिस ने इस मामले में शिकायत दर्ज कर 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर किशोरी को बरामद कर लिया है.

बच्ची से बलात्कार से पहले उसके हाथ और मुंह को बांध दिया था 5 बच्चों के पिता दरिन्दे रियाज़ ने.. जिससे वो दर्द में चीख न सके

बता दें कि पीपली उमरपुर निवासी गंगाराम की 15 वर्षीय बेटी 18/19 जून की रात को गायब हो गई थी. गंगाराम ने गांव के ही मुस्लिम समुदाय के युवक व उसके साथियों पर बेटी के अपहरण का आरोप लगाते हुए डिलारी पुलिस से शिकायत की थी. बताया गया है कि पुलिस ने मामले में लापरवाही दिखाई तथा पुलिस ने न तो किशोरी को बरामद करने की कोशिश की और न ही अभियोग पंजीकृत किया. मामला कप्तान तक पहुंचने के बाद पुलिस ने बुधवार को चार आरोपियों के खिलाफ किशोरी को अगवा करने का मामला दर्ज किया.

मायावती का आरोप- “मुसलमानों को टिकट नहीं देने की सलाह दी थी अखिलेश ने” .. बसपा और सपा फिर भिड़े

इसके बाद गंगाराम द्वारा अपने खिलाफ शिकायत का पता मुस्लिम समुदाय के लोगों को चला तो बुधवार रात करीब साढ़े आठ बजे उन्मादी भीड़ ने गंगाराम के घर धावा बोल दिया. उन्मादी हमलावरों ने गंगाराम (54) और उसके परिवार को लाठी-डंडों से पीटा. उन्मादियों के इस हमले में गंगाराम गंभीर रूप से घायल हो गया. गंभीर हालात में जख्मी गंगाराम को लेकर उनके परिजन अस्पताल पहुंचे, लेकिन डाक्टरों ने देखते ही मृत घोषित कर दिया. फ़िलहाल पुलिस ने नामजद आरोपियों सफायत, उसके बेटों दानिश, छोटू और एक अन्य आरोपी अकरम को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस का कहना है कि किशोरी को गांव का ही नदीम फुसलाकर ले गया था. नदीम को गिरफ्तार कर किशोरी को बरामद कर लिया गया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post