Breaking News:

राम गोविन्द की लाश को कई टुकड़ों में काटा फरहत और असलम खातून ने.. सर कहीं और मिला धड़ कहीं और

दिल्ली के शकूरपुर के रहने वाले कैब ड्राइवर राम गोविन्द की ह्त्या का पुलिस ने हैरान करने वाला खुलासा किया है. खबर के मुताबिक़, फरहत अली तथा उसकी बीबी असलम खातून ने पह्ले कैब बुक की तथा फिर गाज़ियाबाद ले जाकर ड्राइवर रामगोविंद की गला घोंटकर हत्या कर दी. रामगोविंद की ह्त्या करने के बाद उसकी लाश को टुकड़ों में काटा गया तथा टुकड़ों को अलग-अलग जगह फेंक दिया था. साथ ही रामगोविन्द की कार को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ले जाकर ठिकाने लगा दिया था. पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने बताया कि दिल्ली के शकूरपुर का रहने वाला राम गोविंद 28 जनवरी से लापता था. घर नहीं लौटने पर घरवालों ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई थी. पुलिस ने जांच शुरू की तो यह एक ब्लाइंड मर्डर केस था, लेकिन तकनीकी की सहायता से पुलिस आखिरकार हत्यारोपियों पर पहुंच ही गई. डीसीपी विजयंता आर्या के मुताबिक, ब्लाइंड मर्डर केस में गिरफ्तार आरोपियों की पहचान यूपी के अमरोहा निवासी फरहत अली और संभल निवासी सीमा उर्फ़ असलम खातून के तौर पर हुई है. लूटा गया मोबाइल, कार, हत्या में इस्तेमाल कटर और उस्तरा बरामद किया गया है. इसके अलावा, दो बैग जिनमें शव के टुकड़े रखे गए थे, पुलिस ने उसे भी बरामद किया है.

खबर के मुताबिक़, 29 जनवरी को मृतक राम गोविंद की पत्नी ने थाने में गुमशुदगी की जानकारी दी थी. उन्होंने बताया कि उनके पति ऐप बेस्ड कैब चलाते हैं. 28 की रात को साढ़े नौ बजे से उनका कोई अता-पता नहीं है. पुलिस ने जांच शुरू की. आशंका थी कि राम गोविंद को कार समेत अगवा किया गया होगा. पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक की. मोबाइल की लास्ट लोकेशन को चेक किया. पता चला कि कैब लास्ट टाइम मदनगीर से कापसहेड़ा बॉर्डर जाने के लिए बुक की गई थी. इसके बाद जीपीएस डिवाइस ने काम करना बंद कर दिया. उस एरिया में सीसीटीवी चेक किए गए, जिसमें आरोपी दिखाई दिए. पुलिस टेक्निकल सर्विलांस की मदद से रविवार को आरोपियों तक पहुंच गई. दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया.

पूंछताछ में आरोपियों ने कबूल किया कि 29 की रात एक बजे टैक्सी हायर की थी. उसके बाद गाजियाबाद ले गए. साजिश के तहत टैक्सी ड्राइवर को नशीली चाय पिलाई. राम गोविंद बेहोशी की हालत में पहुंच गए तो उनकी गला घोंटकर हत्या कर दी. हत्या के बाद गाजियाबाद स्थित अपने किराए के मकान में शव को छोड़कर कार समेत मुरादाबाद की ओर फरार हो गए. वहां एक सुरक्षित स्थान पर कार खड़ी करके दोनों फिर से कटर और उस्तरे के साथ कमरे पर लौटे. शव के टुकड़े किए तथा नाले में फेंक दिए. पुलिस ने आरोपियों को कैब-एग्रीगेटर के माध्यम से राइड की सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया.

Share This Post