Breaking News:

सड़कों के बजाय छतों पर नमाज शुरू.. असर दिख रहा कड़े क़ानून का

अगर आपके अंदर कड़े निर्णय लेने तथा उन पर अटल रहने की क्षमता है तो न सिर्फ लोगों को उससे सहमत होना पड़ता है बल्कि स्वीकार भी करना पड़ता है. इसकी मिशाल बने हैं योगी आदित्यनाथ शासित उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह. ज्ञात हो कि पिछले दिनों सड़कों पर नमाज पड़ने के विरोध में कुछ हिंदूवादी संगठनों द्वारा सड़क पर हनुमान चालीसा और आरती की गई थी. स्थिति को देखते हुए अलीगढ़ के डीएम चंद्र भूषण सिंह ने निर्णय लिया कि अब न तो सड़क पर नमाज होगी और न ही हनुमान चालीसा.

कांवड़ में आये मुस्लिम लड़के इरशाद को घेर लिया उन्मादियों ने.. फिर जो हुआ उसे नहीं कहा जा सकता सेक्यूलरिज्म

डीएम के इस निर्णय पर की पहले तो आलोचना हुई लेकिन जब डीएम नहीं डिगे तो अलीगढ़ शहर मुफ़्ती खालिद हमीद ने मुस्लिम भाइयों से अपील की थी कि वो बजाय सड़क पर नमाज पढ़ने के मस्जिदों की छत पर व्यवस्था करें. इसके बाद कल अलीगढ़ में जुमे की नमाज मस्जिद की छत पर पढ़ी गई. जिसे देख हर कोई हैरान रह गया तथा अलीगढ़ जिलाधिकारी की तारीफ़ की. तारीफ़ इसलिए क्योंकि इससे पहले जब भी  सड़क पर नमाज का विरोध किया गया तो इस्लामिक मौलाना/मौलवी उसके खिलाफ खड़े हो जाते थे तथा जबरन सड़क पर नमाज पढ़ते थे, लेकिन अलीगढ़ जिलाधिकारी ने ऐसा नहीं होने दिया.

सैलून वाले ने अपना नाम अजय रखा, हिन्दू लड़की उससे प्यार करने लगी.. शादी हुई तो मुंह दिखाई में हुआ गैंगरेप.. दरअसल वो अजय नहीं बल्कि अजमल था

अलीगढ़ में पिछले शुक्रवार को कोतवाली क्षेत्र स्थित बू अलीशाह मस्जिद पर सड़क पर नमाज पढ़ी गई थी, आज वहां निगरानी के लिए मजिस्ट्रेट को लगाया गया था. तमाम फ़ोर्स वहां मौजूद थी. इसके अलावा, पूरे शहर में जगह-जगह सेक्टर बनाकर मजिस्ट्रेटों को निगरानी के लिए लगाया गया था. बू अलीशाह मस्जिद के बाहर आज सड़क पर नमाज नहीं पढ़ी गई. नमाज शुरू होने से पहले ही वहां व्यवस्था के लिए लोगों को लगाया गया था जो नमाज पढ़ने वाले लोगों को मस्जिद के अंदर भेज रहे थे. मस्जिद में धीरे-धीरे जगह भरती जा रही थी तो लोग बजाय सड़क आने केमस्जिद की छत की ओर बढ़ रहे थे.

पत्थरबाजों को सेना ने किया है एक बड़ा इशारा.. मकसद साफ़- “समझ सको तो समझ लो”

पहले ग्राउंड फ्लोर भरा, उसके बाद मस्जिद का फर्स्ट फ्लोर भर गया. अब जगह छत पर बची थी तो लोगों ने छत पर बैठकर नमाज पढ़ी. जुमे की नमाज का कार्यक्रम शांतिपूर्ण तरीके से निपट गया. बू अली शाह मस्जिद अलीगढ की जामा मस्जिद के निकट ही थी. आसपास और भी मस्जिद थी इसलिए प्रशासन की पूरी नजर कोतवाली थाने के इसी क्षेत्र में थी. नमाजियों ने बताया कि जैसा मुफ़्ती साहब ने कहा था उनकी बात का पूरा सम्मान किया गया और मस्जिद की छत पर नमाज अदा की गई.

इस्लाम में तो हाथ जोड़ना भी हराम है.. इसे किसी मौलवी या मौलाना ने नहीं बताया

इसके बाद हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने अलीगढ़ प्रशासन की पहल का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि आज मस्जिदों की छत पर नमाज पढ़ी गई, ये बहुत अच्छा कदम है. जिलाधिकारी इसके लिए बधाई के पात्र हैं. पूरे प्रदेश में इसी तरह का आदेश लागू करे. अलीगढ़ के अपर जिलाधिकारी नगर राकेश मालपानी ने बताया की शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट की व्यवस्था की जाती है. पुलिस भी मौजूद रहती है. आज शांति पूर्ण तरीके से जुमे की नमाज अदा की गई. सभी जगह शांति बनी रही. कहीं सड़क पर नमाज नहीं की गई.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW