बकरी के बाद अब गाय की बछिया.. 4 माह की बछिया के साथ तब तक कुकर्म किया आरिफ ने जब तक वो मर नहीं गयी.. भारी तनाव


वह कौन सी सोच है जो अपनी हवस की पूर्ति के लिए दरिंदगी की सारी हदें पार कर देती हैं ? वो कौन सी सोच है जिसकी जाहिल आदमियत वाली मानसिकता का शिकार कभी मासूम छोटी मासूम बच्चियां होती है तो कभी अपनी मां की उम्र की महिलायें ? लेकिन इस बार तो समाज में परुष के नाम पर कलंक इसी बहसी सोच ने हैवानियत का जो नंगा नाच किया है, उसे जानकर शर्म भी शर्म से शर्मशार जो जायेगी. बहशी दरिन्दे आरिफ ने गाय की 4 माह की बच्चिया के साथ कुकर्म किया तथा तब तक किया जब तक उसकी मौत न हो गयी. समझ नहीं आता है कि आखिर इंसान की सोच इतनी ज्यादा नीचे कैसे गिर सकती है कि अपनी बहसी सोच में जानवरों तक को नहीं छोड़ती. ये दरिन्दे जिनके कारण स्त्री वर्ग तो छोडो जानवर भी असुरक्षित हैं, क्या इनके घर की महिलायें इनके बीच खुद को सुरक्षित महसूस करती होंगी?

इंसानियत को शर्मशार करने वाला ये मामला उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के तिलवाड़ा गांव से सामने आया है जहाँ दरिन्दे आरिफ ने गाय की बछिया के साथ गैंगरेप किया, जिसके बाद बछिया ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया. घटना पिछले वुधवार की है. खबर के मुताबिक़, आरिफ पुत्र यूसुफ पर एक चार महीने की बछिया के साथ कुकर्म करने के आरोप में केस दर्ज किया गया है. गोवंश की शनिवार को मौत भी हो गई. बछड़े के मालिक की शिकायत पर आरोपी युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हैं. शनिवार को बछड़े की मौत के बाद पुलिस ने आईपीसी 377 (अप्राकृतिक संबंध) और 429 (जानवर के साथ क्रूरता) की धाराओं में केस दर्ज कर लिया है.

मीडिया सूत्रों से प्राप्त हुई खबर के मुताबिक़, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी विजय कुमार ने बताया कि आरिफ के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली गई है. आरोपी के परिवार का कहना है कि वह नाबालिग है लेकिन आरोपी की वास्तविक उम्र का पता चिकित्सीय जांच के बाद चलेगा. एक सरकारी पशु चिकित्सक ने बछड़े के मृत शरीर की जांच करने के बाद बताया कि उसकी मौत आंतरिक चोटों की वजह से हुई है. सैंपल को आगरा स्थित लैब भेजा गया है और अंतिम रिपोर्ट का इंतजार है. वहीं गाय की बछिया के साथ रेप ए खबर सामने आने के बाद इलाके में तनाव पैदा हो गया है. मामले की जानकारी मिलते ही हिंदू संगठनों के लोग भारी तादाद में इलाके में जमा हो गए तथा आरोपी आरिफ को जल्द फांसी देने की मांग की.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...