शरीयत के लिए सुप्रीम कोर्ट तथा संविधान के खिलाफ खड़ा हो गया ताज मोहम्मद… मेसेंजर पर पत्नी को दिया तीन तलाक

सुप्रीम कोर्ट और केंद्र सरकार की तमाम कोशिशो के बावजूद भी तीन तलाक की घटनाये रुकने का नाम नहीं ले रहीं हैं और आये दिन तीन तलाक का कोई न कोई मामला सामने आ रहा है. इस्लामिक कट्टरपंथी लोग तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले और इस पर बने कानून की सरेआम धज्जिया उड़ा रहें हैं तथा तीन तलाक दे रहे रहे हैं. इससे साबित होता है कि ये लोग लोकतंत्र में नहीं सिर्फ शरियत में ही भरोसा रखते है और यही वजह है कि इनको भारतीय संविधान , सुप्रीम कोर्ट और कानून का कोई डर नहीं.

मस्जिद गया बीजेपी का मुस्लिम नेता तो उस पर टूट पड़े कट्टरपंथी… जमकर की पिटाई तथा नहीं पढ़ने दी नमाज.. कहाँ है सेक्यूलरिज्म ?

ताजा मामला हापुड़ के सिम्भावली थाना क्षेत्र का है जहाँ ताज मोहम्मद ने दहेज़ में बाइक और दो लाख रूपये न मिलने की वजह से अपनी पत्नी को मेसेंजर पर तलाक दे दिया. पीड़ित महिला के परिजनों ने बताया है कि तलाक के बाद ससुराल वालों ने इद्दत कराने के लिए महिला को घर में बंधक बना लिया. इसके बाद सूचना पर परिजनों के साथ पहुंची पुलिस ने महिला को मुक्त करवाया है. पीड़िता परिवार के मुताबिक मोहम्मद की शादी 3 साल पहले हुई थी लेकिन शादी के बाद से लगातार दो लाख रूपये और बाइक की मांग करते हुए लड़की को प्रताड़ित कर रहे थे. यहां तक कि लड़की पक्ष ने ससुरालियों की डिमांड पर करीब 50 हज़ार रुपये दे दिए थे, लेकिन दिन पर दिन लड़के की डिमांड बढ़ती गई.

3 तलाक मिला तो ओढ़ लिया भगवा और मुकेश का हाथ थाम कर बोली गुलाब बानो- “देखो, मुझे 7 जन्म का साथी मिल गया”

पीड़िता के परिजनों ने बताया कि दहेज़ की मांग पूरी न हो पाने की वजह से बात तलाक तक पहुच गयी और मोहम्मद ने मेसेंजर पर तलाक लिख कर भेज दिया. इसके बाद इद्दत के लिए महिला को घर में बंधक बना लिया . किसी तरह बंधक महिला ने अपने परिजनों को इस बात की जानकारी दी जिसके बाद परिजनों ने सिम्भावली थाना पहुच कर पुलिस को घटना की जानकारी दी. इसके बाद पुलिस ने महिला को मुक्त कराया और आरोपियों पर कारवाई करने की बात कही है

चलती ट्रेन में दिया तीन तलाक और अगले स्टेशन पर उतर गया.. फिर बोला- “जा बता देना जिस से बताना हो”

Share This Post