Breaking News:

पत्नी को गुजारा भत्ता देने के मामले में पहला व्यक्ति जिसने नाम लिया राहुल गांधी का… आखिर क्या था ऐसा मामला?

जब पत्नी को गुजारा भत्ता देने की बात आई तो उसने कोर्ट में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल राहुल गांधी का नाम लिया कि वह पैसा देंगे तभी वह पत्नी ओ गुजारा भत्ता दे पायेगा. उसने कहा कि चूँकि वह बेरोजगार है, इसलिए पत्नी को गुजरा भत्ता नहीं दे सकता है. उसने कहा कि जब देश में कांग्रेस की सरकार आयेगी तो राहुल गांधी ने कहा है कि वह गरीबों को 6 हजार रूपये महीने देंगे.. तो वह उसी में से पत्नी को गुजारा भत्ता दे पायेगा. कोर्ट में दिए व्यक्ति के इस जवाब के बाद हर कोई चौंक गया.

दूषित हो रही देवभूमि.. देहरादून की लड़की के साथ शोएब रूहानी ने किया ऐसा कि कांप उठी मानवता

मामला मध्यप्रदेश के इंदौर का है. यहाँ एक पति-पत्नी के बीच पारिवारिक विवाद चल रहा है. 12 मार्च को अदालत ने इंदौर के सुखलिया के रहने वाले आनंद शर्मा को अपनी पत्नी दीपमाला को हर महीने साढ़े चार हजार रुपये भरण-पोषण के लिए देने का आदेश दिया था लेकिन वह अपनी पत्नी को रकम नहीं दे रहे थे. इस मामले पर जब शुक्रवार को अदालत में सुनवाई हुई तो शर्मा ने कहा कि वह बेरोजगार हैं. वह प्रतिमाह पत्नी को भरण-पोषण का खर्च नहीं दे सकते हैं.

जिन बौद्धों के खिलाफ इस्लामिक मुल्क फतवा जारी कर रहे, उन्हीं बौद्धों की शरण में गया श्रीलंका

उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी ने अपने घोषणापत्र में यह एलान किया है कि आगामी लोकसभा चुनाव में यदि उनकी सरकार बनी तो वह बेरोजगारों के खाते में हर महीने छह हजार रुपये देंगे. आनंद ने आगे कहा, ‘मैं अपने पूरे होशोहवास में यह लिखकर देता हूं कि राहुल गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद जो भी राशि मुझे मिलेगी उसमें से प्रतिमाह साढ़े चार हजार रुपये पत्नी को दे दूंगा. यदि अदालत चाहे तो वह बेरोजगारी भत्ते की राशि में से पत्नी के भरण-पोषण की रकम सीधे उसके खाते में जमा करने का आदेश दे सकती है.’

योगीराज में मिटेगी गुलामी की एक और निशानी? अब बदला जाएगा सुल्तानपुर का का नाम

प्रधान न्यायाधीश के सामने आवेदन देते हुए आनंद ने कहा कि उनका इरादा न्यायालय की अवमानना करना नहीं है लेकिन बेरोजगार होने की वजह से वह भरण-पोषण की राशि देने में असमर्थ हैं लेकिन जैसे ही राहुल गांधी वाले 6 हजार रूपये आयेंगे वह उसमें से साढ़े 4 हजार रूपये दे देगा.अदालत ने शर्मा के बयान को अपने रिकॉर्ड में ले लिया है. इसपर 29 अप्रैल को बहस होगी. अदालत ने 12 मार्च को हुई सुनवाई में शर्मा को आदेश दिया था कि वह पत्नी के भरण-पोषण के लिए हर महीने तीन हजार रुपये और 12 साल की बेटी आर्या के लिए डेढ़ हजार रुपये दें.

पीएम मोदी की जिस कविता को सुन उठ खड़ी हुई थी देश की जनता, उस कविता को आवाज दी स्वर सम्राज्ञी लता मंगेशकर ने.. सामने आया वीडियो

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW