खुद को नए जमाने की लड़की बताती थी वो.. भगवा गमछा वालों को डांटकर उसने प्यार किया था फिरदौस से.. लेकिन वो प्यार नहीं कुछ और निकला

आधुनिकता की आंधी में वो इतनी ज्यादा अंधी हो गई कि उसे सही और गलत का भेद नजर आना भी बंद हो गया. सभी से लड़कर उसने फिरदौस से प्यार किया. इस प्यार में उसने अपनी इज्जत तक की परवाह नहीं की और फिर उसे फांसी लगाकर आत्महत्या करनी पड़ी. मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर के रामानुजगंज में 23 वर्षीय एमएससी की एक छात्रा ने सोमवार को खुदकुशी कर ली. आरोप है कि मृतका का प्रेमी वॉट्सऐप पर चैटिंग के दौरान उसकी आपत्तिजनक फोटो वायरल करने की लगातार धमकी दे रहा था. इस दौरान छात्रा गिड़गिड़ाती रही. प्लीज फोटो अपलोड मत करना. लेकिन लड़के ने उसकी एक न सुनी. जिससे तंग आकर छात्रा ने घर में ही फंदे से लटककर अपनी जान दे दी. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शहर के वार्ड क्रमांड एक में अस्पताल के बगल में रहने वाली 23 वर्षीय पूर्णिमा गुप्ता का वार्ड क्रमांक 13 निवासी फिरदौस आलम से अफेयर था. सोमवार को वॉट्सऐप पर चैटिंग के दौरान फिरदौस ने युवती की आपत्तिजनक फोटो का एक स्क्रीनशॉट भेजकर कहा- बस इसे अपलोड करना है. पूरी चैटिंग के दौरान मृतका फोटो अपलोड नहीं करने को लेकर गिड़गिड़ाती रही. लेकिन फिरदौस लगातार उसे धमकी देता रहा. इस दौरान युवती ने यह तक लिखा, भले मुझे मार डालो, लेकिन प्लीज मेरी फोटो मत डालो.

लेकिन फिरदौस मानने को तैयार नहीं था. इसके बाद दोपहर करीब 12.46 बजे आखिरी मैसेज लिखकर युवती ने घर में ही फांसी लगाकर जान दे दी. परिजन उसे फौरन अस्पताल लेकर गए. जहां डॉक्टरों ने उसे डेड डिक्लेयर कर दिया. बेटी की मौत के बाद से घरवाले सदमे में है. परिजनों ने बताया कि पूर्णिमा पढ़ाई में काफी होनहार थी. वह एमएससी के साथ पीएससी की भी तैयारी कर रही थी.

Share This Post