UP में अलर्ट पर रखी गई पुलिस.. जैसे कभी कश्मीर में अलर्ट हुई थी सेना… अब क्या ?

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाये जाने से पहले जिस तरह से आर्मी को अलर्ट पर रखा दिया था, किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए आर्मी को तैयार रहने के निर्देश दिए गये थे, कुछ वैसा ही अलर्ट यूपी पुलिस के लिए भी जारी किया गया है. जिस तरह 370 हटाए जाने से पहले कश्मीर में सेना अलर्ट हुई थी, वैसे ही यूपी पुलिस को अलर्ट पर रखा गया है. पुलिस के अलर्ट पर आ जाने के बाद सूबे में हलचल शुरू हो गई है.

खबर के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसी गुरुवार को लखनऊ के लोकभवन में प्रदेश के सभी जोन के अपर पुलिस महानिदेशकों (ADG) के साथ बैठक की थी. इस बैठक के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अफसरों को कई निर्देश दिए. इसमें सबसे अहम अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि केस में सुप्रीम कोर्ट से आने वाले फैसले को लेकर विशेष सतर्कता बरतने और थाना स्तर पर तैयारी के निर्देश शामिल हैं.

यूपी के सभी जोन के ADG के साथ बैठक के दौरान मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अयोध्या मामले में फैसले को लेकर पुलिस अलर्ट रहे. फैसले की खुशी में होश खोने वाले और निराशा में किसी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकने वालों पर नजर रखी जाए. इसके लिए थाना स्तर पर पीस कमेटियों का गठन कर अभी से दोनों पक्षों के लोगों को बातचीत कर आपसी सौहार्द के लिए प्रेरित किया जाए. अधिकारी अपना खुफिया तंत्र मजबूत करें.

इसके साथ ही सीएम योगी ने पुलिस अधिकारियों को जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद अराजकता फैलाने वालों पर भी नजर रखने के निर्देश दिए.सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार की क्राइम और करप्शन पर जीरो टॉलरेंस की मंशा है. पिछले ढाई वर्ष में अपराध पर प्रभावी नियंत्रण हुआ है. भ्रष्टाचार पर भी ऐसा ही नियंत्रण होना चाहिए. अपराध और भ्रष्टाचार दोनों मोर्चों पर प्रभावी कार्रवाई के लिए जोन स्तर पर एडीजी स्तर के सीनियर अधिकारी की नियुक्ति की गई.

सीएम योगी ने कहा कि एडीजी जोन जनपद स्तर पर टीम की कार्यप्रणाली, संवेदनशीलता, प्रभावशीलता के संंबंध में समय-समय पर शासन को अवगत कराएं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अपर पुलिस महानिदेशक जोन अपने अधीन जनपदों में रात्रि विश्राम करें. अपराधी प्रवृत्ति और भ्रष्ट व्यक्ति किसी भी स्थिति में थाना अध्यक्ष नहीं बनना चाहिए. राज्य सरकार किसी को भी कानून से खिलवाड़ की छूट नहीं देने के लिए प्रतिबद्ध है.

सीएम योगी ने कहा कि जनपद रेंज-जोन के अधिकारियों तथा पुलिस-एसटीएफ आदि विभिन्न एजेंसियों को पारस्परिक तालमेल के साथ कार्य करना चाहिए. चार्जशीट समय-सीमा में दाखिल की जाए, इसकी समीक्षा भी की जाए सभी 18 रेंज में साइबर थाना और फॉरेंसिक लैब एक परिसर में स्थापित किया जाए. डिस्ट्रिक्ट मॉनीटरिंग कमेटी में तीन तलाक से जुड़े मामलों को लाकर उन्हें फास्ट ट्रैक कराया जाए. वर्तमान में प्रोफेशनल पुलिसिंग की दिशा में बढ़ने की आवश्यकता है. सीएम योगी ने कहा कि त्यौहारी सीजन आ रहा है, साथ ही अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी आने वाला है, इसके लिए जरूरी है कि राज्य पुलिस हर परिस्थिति के लिए हाई अलर्ट पर रहे.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share