Breaking News:

कुवैत से बोला 3 तलाक.. बीबी पहुंच गयी पुलिस के पास और बोली- न्याय करो

देश के माननीय प्रधानमंत्री और सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को अवैध बताया है और इस पर रोक लगायी है । तीन तलाक रोक से मुस्लिम महिला समाज बहुत ही खुश है और तीन तलाक रोक के फैसले को मुस्लिम समाज ने देश के प्रधानमंत्री जी को धन्यवाद कहा । तीन तलाक रोक से मुस्लिम महिला समाज में महिलाओ को सम्मान मिला और उनकी दशा बहुत हद तक सुधर गयी। तीन तलाक के फैसले से कुछ मजहबी ठेकेदारों को आपत्ति होने लगी है।

इसलिए तो वह अपने महिलाओ के साथ अनैतिक कार्य कर रहे है। बता दें की यूपी के फतेहपुर जिले के एक व्यक्ति ने विदेश से फ़ोन करके अपने पत्नी को तलाक दे दिया और तलाक के बाद पीड़िता महिला ने जिला एसपी से मदद की गुहार लगायी। इस मामले में एडिशनल एसपी विनोद कुमार सिंह ने कहा कि विदेश से पति ने पीड़िता महिला को फोन पर तलाक दिया और उन्होंने यह कहा कि अगर पीड़िता महिला शिकायत दर्ज करती है तो हम कारवाई करेंगे।

पीड़िता महिला अपने दो मासूम बच्चो के साथ मदद की गुहार लगा रही है। पीड़ित महिला जाफरगंज थाने के दलेलखेड़ा गांव की रहने वाली है और अफसाना की शादी 10 वर्ष पूर्व गांव के ही ख्वाजा अली के साथ हुई थी.

शादी के बाद से ससुराल वालों ने उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। एक वर्ष पूर्व पति विदेश कमाने चला गया और विदेश से महिला के पति ने फोन करके तलाक दे दिया जिसके बाद पीड़िता महिला जिला के पुलिस अधिकारियो के पास मदद की गुहार लगा रही है।

महिला बताया कि शादी के पहले से ही ससुराल वाले प्रताड़ित कर रहे थे और महिला के पिता ने बताया कि ससुराल वाले देहज के लिए अक्सर उसके बेटी को मरते पीटते थे। गौरतलब है कि महिला के पिता ने तीन वर्ष पहले ही दो लाख रुपए ससुराल वाले को देकर बेटी को बिदा कर दिया।

लेकिन दामाद ने कुवैत से 24 नवम्बर को फोन कर बेटी को तलाक दे दिया. तलाक दिए जाने के बाद महिला ने पुलिस के आलाधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगाई और मंगलवार को एसपी ऑफिस में जाकर एसपी से गुहार लगाई.

एसपी ने आश्वासन दिया है कि जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। लगता हे कि तीन तलाक रोक फैसला मज़हबी लोगो को रास नहीं आ रही है तभी तो वे लोग अपने जीवन के आधार को एक शब्द बोलकर “तलाक “से अपने से अलग कर देते है। इससे वे महिला को चोट नहीं करते बल्कि उनके बीच अपने बच्चो की जिंदगी को भी बर्वाद करते है। ऐसा करे वे लोग अपने को कमजोर दिखाते है और इस दुनिया में मानव सौहार्द से बड़ा धर्म कोई नहीं है। 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW