बच्चों के कोमल मन में वैचारिक जहर भर रही थी वो महिला अध्यापिका.. और वो कश्मीर की नहीं थी

कहने को तो वो एक अध्यापिका थी तथा उसके ऊपर देश के भविष्य बच्चों को गढ़ने की जिम्मेदारी थी. लेकिन अफ़सोस वो अध्यापिका बच्चों के मन में वैचारिक जहर भर रही थी तथा उन्हें हिंदुस्तान के खिलाफ तथा आतंकी मुल्क पाकिस्तान के समर्थन में खड़ा कर रही थी. अध्यापिका की इस उन्मादी सोच के बारे में तब मालूम पड़ा जब पुलवामा में इस्लामिक आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवानों के बलिदान के बाद जब पूरा देश ग़मगीन था तब ये अध्यापिका इसके लिए पाकिस्तान का धन्यवाद कर रही थी.

मामला कर्नाटक के बेलगावी का है. पुलिस सूत्रों ने रविवार को बताया कि बेलगावी के शिवपुरा स्थित स्कूल की अध्यापिका जिलेखा बी को शनिवार की रात तब गिरफ्तार कर लिया गया, जब सोशल मीडिया पर उसने ‘पाकिस्तान की जय हो’ लिखा. पुलिस ने बताया कि बेलगावी निवासी अध्यापिका को रविवार को एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया जिसे वहां से न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. अध्यापिका के पोस्ट से लोगों का गुस्सा भड़क उठा था. कुछ युवा उसके घर के पास एकत्र हो गए थे जिन्होंने पथराव किया और उसके घर को कथित तौर पर जलाने की कोशिश की. घटनास्थल पर तुरंत पुलिस पहुंच गई थी और महिला तथा प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया था.

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के समर्थन में टिप्पणी करने के मामले में राज्य में यह दूसरी गिरफ्तारी है. शनिवार को शहर के एक कॉलेज के एक 23 वर्षीय कश्मीरी छात्र ताहिर लतीफको भी गिरफ्तार किया गया था.  उसने जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार और शहीद जवानों के शवों की कथित तौर पर तस्वीरें लेकर इन्हें व्हॉट्सअप पर अपना डिस्प्ले प्रोफाइल बनाया था और आतंकवादी की तारीफ की थी.

Share This Post