सीना ठोक कर लालू ने मीडिया से कहा- , हाँ शहाबुद्दीन मेरा दोस्त है क्या कर लोगे तुम लोग


नई दिल्ली: कभी रेलवे मंत्री रहे आरजेडी चीफ लालू यादव और उनके परिवार की मुश्किलें दिन पर दिन बढ़ती दिख रही हैं। कभी घोटालो को लेकर तो कभी उनकी और शहाबुद्दीन की दोस्ती को लेकर आय दिन वह सुर्खियों में बने ही रहते है। उनकी पत्नी राबड़ी देवी का संस्कारी बहु पर आपत्तिजनक बयान देने का मामला थमा ही नही था एक और मामला सामने आ गया।

दरअसल, लालू यादव ने अपनी काली कमाई को छुपाने और बेनामी संपत्ति को लेकर मीडिया के सवाल पूछने पर उल्टा मीडिया पर ही भड़क गए और तो और रिपोर्टर को ही धमकी दे डाली। इतना ही नहीं सवाल पूछे जाने के बाद लालू ने मीडिया को क्या-क्या नही सुनाया। इतना ही नही उन्होंने तो बीजेपी सरकार पर वार करते हुए लालू ने मीडिया के साथ-साथ बीजेपी सरकार को भी बुरा बना दिया। लालू ने कहा कि तुम लोग( मीडिया) पीएम मोदी से सुपारी लिए हो और उसी की भाषा बोलते हो।

सिर्फ इतना ही नही लालू ने तो बीजेपी को यह तक कह दिया कि मीडिया को मोदी ने जानबूझ कर मुझे बदनाम करने के लिए भेजा है।आपको बता दें कि लालू यादव राष्ट्रपति उम्मीदवार पर फैसले के लिए सोनिया गांधी द्वारा बुलाई गई अहम बैठक में शामिल होने बुधवार को दिल्ली पहुंचे थे। जहां पर नई दिल्ली हवाई अड्डे पर पत्रकारों ने जब उनकी बेनामी संपत्ति और घोटालों के बारे में उनसे सवाल किये तो वो भड़क गए और पत्रकारों को खरी-खोटी सुनाने लगे।

लालू से जब शहाबुद्दीन से उनके संबंध के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हां मेरी दोस्ती शहाबुद्दीन से है, क्या कर लोगे तुम लोग। लालू यादव से बेनामी संपत्ति और उसकी आयकर विभाग की जांच सहित छापेमारी से संबंधित सवाल किए गए तो लालू यादव गुस्सा हो गए। रिपोर्टर ने जब लालू से कहा कि आप घोटाले पर घोटाले करेंगे और हम आपसे सवाल भी नहीं पूछें, तो लालू ने रिपोर्टर को ही घोटालेबाज बता दिया।  

सूत्रों के मुताबिक, आयकर विभाग ने दिल्ली में स्थित उनकी कथित ‘बेनामी संपत्तियां’ जब्त करने का आदेश दिया है। इन संपत्तियों की कीमत 50 करोड़ रुपये से ज्यादा बताई जा रही है। इसके साथ ही विभाग ने लालू की बेनामी संपत्ति रोकथाम कानून के तहत बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और उनके भाई-बहनों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। थोड़े दिनों पहले ही लालू यादव के खिलाफ जांच तेज करते हुए आयकर विभाग ने दिल्ली और गुरुग्राम में उनके 22 ठिकानों पर छापेमारी की थी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share