बलात्कारी ईसाई पादरी सहित 6 को मिली उम्रकैद.. समाज बोला -“ये है असली न्याय” ..


झारखंड के खूंटी के अड़की प्रखंड के कोचांग गांव में आरसी मिशन स्कूल की पांच लड़कियों से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में अदालत ने अपना फैसला सुना दिया है. अदालत गैंगरेप के आरोपी ईसाई पादरी सहित सभी 6 दरिंदों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. न्यायाधीश राजेश कुमार की अदालत ने ये फैसला सुनाते हुए कहा कि सजा के अलावा दोषियों को डेढ़- डेढ़ लाख रुपये का जुर्माना भी देना होगा. जुर्माना नहीं देने की स्थिति में 3 साल अतिरिक्त जेल काटनी होगी.

बिजली के खम्भों पर बिछा दिए गये केबल नेटवर्क के तार.. प्रशासनिक अधिकारी भी उसी नेटवर्क से देख रहे TV. ये राजस्थान है

इससे पहले 7 मई को खूंटी कोर्ट ने इस मामले में आरोपी फादर अल्फांसो आइंद समेत 6 आरोपियों को दोषी करार दिया. मामले में 19 लोगों की गवाही हुई. गवाह, पीड़िताओं के बयान और मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों को दोषी करार दिया गया. कोर्ट ने फादर अल्फांसो को घटना का साजिशकर्ता माना. इस मामले में फादर अल्फांसो के अलावा जॉन जोनस टुडू, बल समद, बाजी समद उर्फ टकला, जोनास मुंडा, अजुब सांडी पूर्ति को दोषी करार दिया. वहीं एक आरोपी नियल सांडी पूर्ति फरार चल रहा है.

भगवा को बदनाम करने की बेहद नापाक साजिश.. 8 साल तक साधु बना रहा अपराधी अनीश खान

ज्ञात हो कि पिछले साल 19 जून को झारखण्ड के खूंटी के अड़की प्रखंड के कोचांग गांव में आरसी मिशन स्कूल से पांच लड़कियों को अगवा कर लिया गया था. अगवा करने के बाद लडकियों को जंगल ले जया गया था तथा जंगल ले जाकर उनके साथ गैंगरेप किया गया. इस दौरान उनका वीडियो भी बनाया गया. स्कूल के प्रिंसिपल फ़ादर अल्फ़ांसो आइंद की मौजदगी में ही इन लड़कियों को उठाया गया था. बाद में उन्हें पुलिस ने घटना की जानकारी नहीं देने के आरोप में गिरफ़्तार किया था.

जिसे शिक्षक कहते थे वो था आतंक का शिक्षक.. सेकुलर श्रीलंका के विश्वास का ऐसे उठाया गया नाज़ायज़ फायदा

सामूहिक दुष्कर्म की शिकार पीड़ित लड़कियां एक नाटक मंडली का हिस्सा थीं और मानव तस्करी के खिलाफ जागरुकता फैलाने के लिए नुक्कड़ नाटक करने कोचांग पहुंची थीं. नुक्कड़ नाटक के दौरान ही दो मोटरसाइकिलों पर सवार पांच लोग वहां पहुंचे और सभी को उनकी ही कार में बैठाकर जबरन जंगल की ओर लेकर चले गए. जहां पहले लड़कियों के साथ गैंगरेप किया गया. इनके पुरुष साथियों को पेशाब पिलाया गया. इस घटना के बाद देश आक्रोश से भर उठा था दरिंदों को फांसी की सजा की मांग की थी.

पहली बार होने जा रही इस अंदाज में हिंदुओं की चार धाम की पवित्र यात्रा..

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share