उत्तर प्रदेश बनता जा रहा था अवैध घुसपैठियों की जन्नत.. मथुरा पुलिस ने दबोच लिए 17 अवैध बांग्लादेशी जिनका मुखिया था मुफीजल हसन

शायद बांग्लादेशी घुसपैठिये भी इस बात को जानते हैं कि भारत में उनके काफी रहनुमा, काफी हमदर्द बैठे हैं जो उनके लिए अपने ही देश की सरकार के खिलाफ तनकर खड़े हो जाते है. इन्हीं कथित हमदर्दों से मिले संबल का ही नतीजा था कि बांग्लादेशी घुसपैठियों ने श्रीकृष्ण की जन्मभूमि मथुरा को संक्रमित करना शुरू कर दिया. लेकिन आखिरकार वो यूपी की मथुरा पुलिस की पैनी नजरों से बच नहीं सके.

उद्योगपतियों ने माना योगी सरकार का लोहा… व्यवसायिक क्षेत्र में भी नए आयाम पर उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश की मथुरा पुलिस को उस समय बड़ी सफलता प्राप्त हुई जब उसने श्री कृष्ण की मगरी में अवैध रूप से रह रहे 17 बांग्लादेशियों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस को यह भी आशंका है कि जिले में और भी बांग्‍लादेशी नागरिक हो सकते हैं. पुलिस ने इन्‍हें मथुरा के थाना छाता क्षेत्र के अकबरपुर गाँव में रेलवे लाइन के पास से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार लोगों में चार महिलाएं, पांच पुरुष व आठ बच्चे शामिल हैं. पुलिस ने इन सभी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है.

अमिताभ बच्चन की पत्नी को अमर सिंह की सीधी बात.. रोकने को कहा जुम्मा चुम्मा

पुलिस का कहना है कि आरोपी दिल्ली-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित छाता तहसील क्षेत्र में अकबरपुर गांव में रेलवे लाइन के सहारे झुग्गी-झोपड़ी डालकर रह रहे थे. इनके पास भारत में रहने के कोई भी वैध दस्तावेज नहीं मिले. दरअसल, हाल ही में एक-दो आपराधिक वारदातों में घुमंतू जाति बावरिया गिरोह के लोगों का हाथ होने की संभावना पर पुलिस उनकी तलाश में जुटी थी. तभी पुलिस को खुफिया विभाग के सहयोग से अवैध बांग्लादेशी घुसपैठियों के अकबरपुर गांव में रेलवे लाइन के किनारे अस्थायी आवास बनाकर रहने की जानकारी मिली.

29 जुलाई: बलिदान दिवस UP पुलिस के जांबाज़ सतीश यादव को भावभीनी श्रद्धांजलि.. जिन्होंने अपराधियों से लड़कर पाई वीरगति

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने बताया, ‘तहकीकात में उन सभी के बांग्लादेशी नागरिक होने तथा अवैध रूप सें भारत में प्रवेश कर यहां रहने की पुष्टि होने पर गिरफ्तार कर लिया गया. वे पिछले तीन साल से यहां जमे हुए थे’. गिरफ्तार किये बांग्लादेशियों में मुफीजल हसन पुत्र मोहम्मद इलियास अली, कोरियम पत्नी मुफीजल, मुनीरा पुत्री मुफीजल हसन, माफूजा पुत्री मुफीजल, मेंहदी हसन पुत्र आमीन, राजू पुत्र गुलफर, नाजमा पत्नी राजू, मासुरा पुत्री राजू, मासुमा पुत्री राजू, रानी पुत्री राजू, मनीरुल पुत्र आमीन, हलीमा पत्नी मनीरुल, माही पुत्र मनीरुल, अमानउल्लाह पुत्र साबुद्दीन, अमीना पत्नी अमानउल्लाह, आरिफ पुत्र अमानउल्लाह और आरिफ पुत्री अमानउल्लाह हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW