जिस दरिन्दे मौलवी के लिए राष्ट्र मांग रहा था मृत्युदंड उसको मिली 23 साल की सजा. मदरसे में लूटी थी मासूम की इज्जत #HangMaulviKarim


इस मौलवी ने समाज को हिला कर रख दिया था अपने कुकर्म से . इसने एक मदरसे को पढ़ाई के बजाय अपनी हवस की पूर्ति के लिए दुरूपयोग किया था और दिखाई थी ऐसी दरिंदगी कि इसको सब चाह रहे थे फांसी के फंदे पर झूलता देखना, पर उन सबकी इच्छा शायद अब पूरी न हो सके क्योकि सक्षम अदालत ने इस दरिन्दे और हवसी को 23 साल के लिए जेल भेजा है जो समय के अनुसार तो काफी है लेकिन जनता की अपेक्षाएं इसको फांसी के फंदे पर झूलते देखने की थी ..

अब इस मामले में अभियोजन पक्ष क्या करता है इसको देखना होगा जिस से आशा की जा रही है इस मौलवी को फांसी दिलाने के लिए उच्च अदालत में जाने की . ये मामला है उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर का जहाँ महानगर नॉएडा में इस हैवान ने मदरसे को अपनी हवस की पूर्ति का अड्डा बना रखा था . इसकी सामने से बेहद मृदुभाषिता और मिलनसार छवि ने बच्चो के अभिभावकों को कभी शक भी नहीं होने दिया कि उसके अन्दर एक दरिंदा समाया हुआ है जो मासूमियत का दुश्मन है .

इस दरिन्दे मौलवी का नाम सबा करीम है जो मूल रूप से मुस्लिम बहुल जिले बिहार के किशनगंज का रहने वाला था . साल 2018 में नोएडा सेक्टर-49 में स्थित पुलिस थाने में पीड़िता के परिजनों ने मौलवी के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके आधार पर पूरे मामले की सुनवाई हुई।इस जघन्य अपराध के बाद नोएडा पुलिस ने सेक्टर-49 थाने में पीड़िता के परिजनों के बयान के आधार पर मौलवी के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी .  मासूम बच्ची बीती साल 13 जनवरी को सेक्टर-49 कोतवाली के बरौला स्थित मदरसे में एक बच्ची पढ़ने गई थी।

वहां मौलवी ने बच्ची से दुष्कर्म किया। बाद में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. इस मामले में नॉएडा पुलिस की पैरवी भी सराहनीय रही है जिसने आख्रिरकार तमाम कानूनी दांवपेच लगाने वाले मौलवी को बच निकलने का मौक़ा नहीं दिया और उसको दोषी  साबित करवा कर ही दम लिया . मामले की सुनवाई कोर्ट में हुई तो पीड़िता ने आरोपी मौलवी को पहचान लिया और पूरी घटना के बारे में बताया। मेडिकल टेस्ट में भी बच्ची संग रेप की पुष्टि हुई।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...