Breaking News:

भड़क गई बसपा जब उसने मायावती के साथ अखिलेश की देखी फोटो, जानिए क्या है पूरा मामला…

2019 लोकसभा चुनाव का परिणाम लगता हैं विपक्ष बखूबी जानती हैं इसलिए वे हर मुमकिन कोशिश कर रही हैं जिससे वे भाजपा की लेहेर को ख़त्म कर सके।

भाजपा की जनता में लोकप्रियता देख विपक्ष इतना भयभीत हो गया हैं कि उन्हें अकेले मोदी सरकार का सामना करने में डर लग रहा हैं इसलिए सभी विपक्ष

पार्टियों एक साथ भाजपा के खिलाफ खड़े होने की तैयारी कर रही हैं.

जिसके लिए रैली निकालने की तैयारी हैं जिसमे देश की सभी बड़ी पार्टियों के दिग्गज नेता एक साथ प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के विरोध में प्रदर्शन करेंगे.

ऐसे

में यह अठकले लगाई जा रही हैं कि बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा राष्ट्र अध्यक्ष अखिलेश यादव रैली में एक साथ नज़र आ सकते हैं. लेकिन इस पर मायावती

का कोई बयान अब तक नहीं आया हैं. लेकिन बीते दिन सोशल मीडिया पर बसपा के ऑफिसियल अकॉउंट से ऐसा कुछ साझा हुआ जिसे देख सभी हैरान रह गए. दरअसल, रविवार को बसपा के ट्विटर ऑफिसियल अकॉउंट से एक पोस्टर साझा हुआ जिसमे अखिलेश यादव और मायावती साथ नज़र आ रहे हैं और पोस्टर में

लिखा हैं कि सामजिक न्याय के समर्थन में विपक्ष एक हो. हालांकि, इस पोस्टर में अन्य विपक्ष दल के नेता भी हैं लेकिन बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा राष्ट्र

अध्यक्ष अखिलेश यादव का साथ होना इसलिए बड़ी बात हैं क्यूंकि बसपा और सपा कितने कट्टर राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं यह बात छुपी नहीं हैं.

वहीं, पोस्टर साझा होने के बाद जब इस बारे में बसपा से सवाल पुछा गया तो पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने यह कह कर बात को सिरे से ख़ारिज कर

दिया कि बसपा का कोई ऑफिसियल ट्विटर हैंडल नहीं हैं. हालांकी, लालु पुरी कोशिश कर रहे हैं मायावती और अखिलेश यादव को साथ लाने की. ताकि 2019

लोकसभा चुनाव में भाजपा से बिहार की सत्ता उनके हाथो से छीनने का बदला ले पाए.  

Share This Post